Posts

Showing posts from August, 2018

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 20 : मैं कालिदास का मेघ हूँ

Image
एक बार मैं अपने रास्ते जा रहा था कि मैंने देखा, रामगिरि पर एक पुरुष आकाश की ओर मुँह किये खड़ा था। एकबारगी तो मैंने ध्यान नहीं दिया, क्योंकि कई आकाशमुखी साधुओं को मैं इस तरह खड़ा देख चुका था। उस ज़माने में शैव संप्रदाय के साधुओं का एक समूह ख़ुद को ‘आकाशमुखी’ कहता था। वे आसमान की ओर मुँह उठाकर शिव का नाम लिया करते थे। इस उम्मीद में कि ख़ुद शिव उन्हें दर्शन देंगे। वे गरदन पीछे झुकाकर अपनी दृष्टि को आकाश में तब तक केंद्रित रखते थे, जब तक शिव दिख न जाएँ या उनकी माँसपेशियाँ सूख न जाएँ। मुझे नहीं पता, किसी को शिव दिखे या नहीं, लेकिन आसमान को घूरती अकड़ी हुई कई लाशों को मैंने देख रखा था। 
जब उस पुरुष ने आवाज़ देकर मुझे पुकारा, तब मुझे लगा कि यह आकाशमुखी नहीं, बल्कि कोई और है। और जैसे ही उसने मुझसे बातचीत शुरू की, मुझे समझ में आ गया कि यह कोई प्रेम-विदग्ध है। विरह का मारा है। अपनी प्रिया की याद में तड़प रहा है। मेरे पूछने पर पता चला कि यह कवि है, लोग उसे कालिदास नाम से जानते हैं। वह मुझे अपनी कविता का एक पात्र बनाना चाहता था। मैं हँस पड़ा। मुझ जैसे अज्ञात बादल को कोई हँसी का पात्र न बनाना चाहे,…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 19 : लैला की उँगलियाँ

Image

प्रभात की ६ नई कविताएं

Image
जीवनकेदिन
हमतोदेखतेहीहैंअपनेदिन जीवनभीहमेंअपनेदिनदिखाताहै ***
ईंधन
बोझेसेदबेदबेचलतेहुए वेआँधियोंसेजूझतीहैं जैसेपेड़जूझतेहैंनिराअकेले ***
आतपमेंपेड़
साधारणपेड़हैंये सूखतेहुएजीतेहुए
मेरेइलाकेकेगरीबहैंये जीवनकेप्रेमपड़ेहुए