Skip to main content

मनोज कुमार झा की नई कविताएं


                                                                                                                                                                                                                                Photo @anurag_v




मासूमियत में पराजित

वो निहायत मासूम था
इतना मासूम कि उसे इस कठिन जाड़े में भी गर्म कपड़े नही थे
चप्पल किसी के थे जिसे अब उसके पैरों ने कबूल लिया था
रात के तीन थे और मैं स्टेशन पर चाय पी रहा था
वो अंगीठी में हाथ सेंक रहा था जो चायवाले को बुरा लग रहा था
हम दोनों ठंड में थे ,मेरे पास मफलर था और उसके पास खुले कान
वो इस शहर में नया था,शहर उसके लिए नया नहीं था
वो कई शहर देख चुका था और जान चुका था कि हर शहर के दस्ताने एक से होते हैं
हर शहर उसकी मासूमियत को थोड़ा खुरच देता था
वो भूख में था और भूख की आवाज़ नहीँ होती
खाने की डकार होती है

उसे जब मैं शरीफ लगा तो लगभग कान में बोला
मैं कुछ लड़कियों को जानता हूं जो प्लेटफार्म पर घूम-फिर रही है
आप कहें तो बात करा दूँ
वो अपनी मासूमियत में पराजित था ,मैं अपने शरीफ समझे जाने में सशंक।
*** 


उच्छिष्ट

तुम्हें भी चमक की आदत लग जायेगी
हंसने के भीतर प्रकाश उपहास बनकर जगह बना लेगा
तुम शुरू शुरू में जान भी सकते हो शायद 
फिर भूल जाओगे
चाय पीने की दुकान बदल जाएगी
प्यारे पकोड़ों का स्वाद बदल जायेगा
तुम पकौड़े वाली पर चिल्लाओगे
यह सब होगा
खुद को उदार समझते जाने के बावजूद
यह इस शहर का दस्तूर है
यहां हजारों घूमते हुए फ़्लैश लाइट्स है
यहां बहुत अधिक रौशनी है
और तुम जैसे
कीड़ों में बदल रहे
उच्छिष्ट परिवर्तन के ग्राहक उसके खाद्य।

***
 

दुख में बातचीत

वेश्या मत बनना मेरी प्यारी बेटी
 
गिद्धों के शरीर का स्पर्श बहुत दुख देता है
यह रगड़ देता है कालिख मन की दीवारों पर
वेश्याओं का मजाक भी मत उड़ाना
तेरी मां ने भी कुछ ऐसे दिन भोगे हैं
लोभ त्याग देना, नहीं कहूँगा
दो जून का खाना और साफ जल से नहाना लोभ नहीं है
तुम खूब सोने बाली चिड़िया बनना और खूब आराम करना
मैं अपने पंख तुम्हारे लिए छोड़ जाऊँगा
कविताएं पढ़ती रहना और चांदनी में नहाना
याद रखना जिस सरंगिये के साथ मैं गोरखधाम भागा था
उससे चाँद ने वादा किया था कि तुम मेरे साथ रहो
मैं दिलाऊँगा तुझे रोटी और साफ पानी।
***
अन्यथा

एक किसान के पतन के ब्यौरे जानकर 
तुझे क्या मिलेगा
इससे ज़्यादा तो तुझे बैंगन में लगा 
कीड़ा बता देगा
***

सभ्यता

एक अम्बानी की बीबी
तीन लाख का एक कप
यूज़ एंड थ्रो करती है
यह जायज है
हजारों साल की सभ्यता का यह हासिल है।

एक परीछन जमींदार के खेत में ककड़ी
तोड़ते पकड़ा जाता है
उसके मुंह पर कालिख मल दी जाती है
यह भी हजारों साल की सभ्यता का हासिल है।
***

  (सबद पर मनोज की अन्य कविताएं यहाँ )

Comments

बहुत अच्छी कविताएँ,भैया...शांत,गझिन,अपार करुणा से भरी।
बहुत सुंदर।
Leena Malhotra said…
बहुत अच्छी
Kuldip Kaur said…
Thanks for sharing this...
उच्छिष्ट बहुत अच्छी कविता
Pankhuri Sinha said…
Waah, badhai shubhkaamnayein
बहुत उम्दा
Kavi Ta said…
अच्छी कवितायें
Gaurav Sharma said…
बहुत सुन्दर कविताएं
Evocative images, poignantly expressed

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…