Skip to main content

महेश वर्मा की नई कविताएं



Marc Chagall
प्रेमी ज़मीन से

प्रेमी ज़मीन से कुछ भी उठा सकते हैं, एक बटन,
कंघी का टुकड़ा या चमकीली पन्नी. अचेतन में
वे इन सबके गैर पारंपरिक उपयोगों के बारे में सोचते हों.

वे उठा सकते हैं एक टूटी हुई सीप का टुकड़ा और समुद्र
एक टुकड़ा उनकी उँगलियों के बीच आ जाता है उनकी उदास
आँखों में हैरत से देखता.

चूड़ी का एक टुकड़ा उठाते वे वास्तव में इन्द्रधनुष
का लाल रंग ज़मीन से उठा रहे थे कि आज
दोपहर भी सर्वांग सुन्दर दिखाई पड़े आकाश का इन्द्रधनुष .

एक रंगीन कागज उनकी उँगलियों के बीच कभी जानवर कभी
बन्दूक कभी नाव बनता, फिर कागज हो जाता किसी को मालूम नहीं
यह खेल ही बना रहा आकाश , जल और भविष्य इस संसार का .

इसी धूल से उन्हें बनाना है भविष्य के पर्वतों का शिल्प
धूल जो उड़ा कर देख रहे हैं हवा का रुख इतनी देर से.

धातु का एक अमूर्त टुकड़ा ज़मीन से उठाएंगे एक रोज
और किसी के हाथ देकर थमा देंगे सम्राट होने का अभिशाप .
***

हमारे कवि

क्या कर रहे हैं
क्या उन्होंने लिख लिया यह अँधेरा
जो हमारे भी बीच फैला है .

उन्होंने आँखें ढांप तो नहीं ली थीं हाथ से
जब आया था प्रकाश .

वे लिख पाए क्या धूप से भी सुन्दर हंसी
जो फ़ैली हुई थी आकाश पर. उस समय वे
धरती की भीतरी तहों को तो नहीं सोचते थे .

क्या वे लिख पाए दुःख
जो अब भी आंतरिक से अधिक वाह्य बचे हुए हैं चारों ओर
ठोस शारीरिक दुःख जो छूकर
देखने की ज़द में हैं- जैसे अपने ही माथे का खुला घाव .

अभी इस वक्त जब
हौले-हौले हिल रही है रात

कवि क्या कर रहे हैं .
***

सम्पूर्ण जलमंडल को मथते हुए

नदी कोई नहीं हमारे शहर में
शायद इसीलिये नहीं कोई नाविक .

थोड़ी दूर पर जो नदियाँ हैं
इतनी वे चौड़ी नहीं कि चलाई जा सके नाव .
बच्चों की नाव के लिहाज़ से थोड़ा तेज
इनका बहना, ठुनकना.

यात्रा में कहीं जाते ट्रेन पर अचानक
कोई नदी आ जाए कि पुल की गडगडाहट से ही जागे थे,
यहीं दिखाई पड़ते हैं : नाविक और नाव.

दूर से नाव का चलना नहीं दीखता
नाविक की देह का आलोडन बस दिखाई देता है.
( कि अकेले
अपनी डान्ड चला रहा है )
***

प्रतिदिन

यातना उसके चेहरे से पुंछी नहीं है, सोती हुई
स्त्री के सपनों में आगामी यातनाओं के चलचित्र हैं
पीठ की ओर पुरुष पराजय
ओढकर लेटा है अपने सीने तक.

कहीं बाहर से आता है वह प्रकाश
जो एक दायरा बनाता है इसी स्त्री पीठ पर.

पुरुष हर रात यह जादू देखता है अपने स्पर्श में

दो उजले पंख,
कंधे और पीठ के बीच की सुन्दर जगह से बाहर आते इस प्रकट संसार में.
ठीक बगल में जो सो रही है स्त्री यह उसी के बारे में है .

पुरुष बाहर प्रकाश देखता है जो यह दायरा बनाता है . अब तो अभ्यास से
भी यह जानता है कि ऐसा करते ही गायब हो जायेंगे
हौले से छूता है सफ़ेद पंख .

करवट बदल कर
स्त्री अन्धकार की ओर अपनी पीठ कर लेती है.
***

[ महेश की अन्य कविताएं यहाँ.  ]  

Comments

Reenu Talwar said…
"दूर से नाव का चलना नहीं दीखता"
"करवट बदल कर
स्त्री अन्धकार की ओर अपनी पीठ कर लेती है."
"उन्होंने आँखें ढांप तो नहीं ली थीं हाथ से
जब आया था प्रकाश ."

बहुत सुन्दर समवेदन्शील कवितएं...

महेश के पास अपना बिलकुल अलग लहजा है जो हमेशा कारगर साबित हुआ है और आश्‍वस्‍त करता है... कहने की ज़रूरत नहीं कि वे जीवन और कलाओं के कई आयामों में सक्रिय कवि हैं। मुझे उनके संग्रह का इंतज़ार है। उन तक मेरी शुभकामना पहुंचे...

सबद का शुक्रिया।
Vipin Choudhary said…
mere sabse priy kaviyon me se ek
mahesh jee
shukaiya shabd
pahlee do kavitayen to bemisaaal hain
ये एक विराट और लगभग दूर छिटकते कैनन की कविताएँ हैं. कविताओं के चप्पे-चप्पे पर क्षेत्रीयता और समय चिपके हुए हैं. मुझे बड़ा अच्छा लगा इन्हें पढ़कर.
Amrita Tanmay said…
एक लम्बी आह को आमन्त्रित करती कवितायें..
kumar anupam said…
महेश भाई का लबो-लहज़ा नितांत नया है, बहुत पुख्ता, सधी भाषा और कथन महेश वर्मा को महत्तवपूर्ण कवि बनाती है। उनसे हमें ऐसी ही रचनात्मकता की बेहद उम्मीद है।

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…