Skip to main content

पोथी पढ़ि पढ़ि : ४ : व्लादिमिर नबोकोव



सच्चे मीडीऑकर अपने अधलिखे की नुमाइश करते हैं


 मेरा कभी किसी मंडली से ताल्लुक नहीं रहा. किसी स्वीकृत मत या समूह का मेरे ऊपर कभी कोई प्रभाव नहीं रहा. राजनीतिक उपन्यास और समाज कल्याण के मनोरथ से लिखे गए साहित्य से ज़्यादा ऊब मुझे किसी चीज़ से नहीं होती. 

एक
कलात्मक कृति का समाज के लिए कोई महत्व नहीं है. यह सिर्फ उस शख्स के लिए महत्व रखती है जो इसके संपर्क में आता है और मेरे लिए भी वही शख्स महत्वपूर्ण है. 


मुझे नहीं लगता कि एक कलाकार को अपने चाहनेवालों के लिए व्याकुल होना चाहिए. उसका सबसे बड़ा चहेता तो वह शख्स है जो हर सुबह उससे हजामत बनाते हुए आईने में मिलता है. 

मुझे मूर्खता, दमन, अपराध, क्रूरता और  सुगम संगीत पसंद नहीं. लिखने और तितलियाँ पकड़ने से बड़ा मेरे लिए कोई सुख नहीं. 

तुम किसी चीज़ के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जान सकते हो लेकिन उसके बारे में सबकुछ नहीं जान सकते : सबकुछ जान लेने की इच्छा ही हताश करती है.

तुम जितना किसी 'याद' को प्यार करोगे, वह अपने तईं तुम्हें उतनी ही पुरसर और अजनबी मालूम पड़ेगी. 

मैं विज्ञानी जूनून और काव्यात्मक धैर्य का मुरीद हूँ. 

एक कलात्मक कृति में कविता की क्षिप्रता और विज्ञान की उत्तेजना, दोनों का विलय हो जाता है.  

केवल  
टुच्चे महत्वाकांक्षी और सच्चे मीडीऑकर अपने अधलिखे की नुमाइश करते हैं. यह किसी को बलगम के नमूने दिखाने जैसा है. 

मेरे लिए लेखन हमेशा उदासी और उत्साह, यंत्रणा और मनबहलाव जैसी मिलीजुली मनोदशा में मुमकिन होता रहा.

एक लेखक को हिस्की करने वाले दूसरे लेखकों के काम को, यहां तक कि ऊपर बिराजे ख़ुदा की इबारत को भी, ध्यान से पढ़ना चाहिए.

तुम किसी लेखक की कृति दिल से नहीं पढ़ते ( दिल से बोदे पढ़ते हैं ) और न अकेले दिमाग़ से ही,  इसके लिए दिमाग़ और एक तनी हुई रीढ़ दरकार है. 
****
अनुवाद : अनुराग वत्स. 

[ व्लादिमिर नबोकोव के ये विचार उनकी कथेतर गद्य-पुस्तक '' स्ट्रॉंग ओपिनियंस '' से लिए गए हैं.
उनकी तस्वीरें गूगल से हैं.
इस श्रृंखला की दूसरी 
कड़ियाँ यहां. ]

Comments

sarita sharma said…
व्लादिमिर नबोकोव की उक्तियाँ स्पष्ट और बिना लाग लपेट के हैं.उन्हें राजनीति और भाषणबाजी से परहेज है और मूर्ख तथा मिडीयोकर लोगों से चिढ है.जानने और यादों की सीमा को वह समझते हैं और लेखन को जीने के लिए बेहद जरूरी मानते हैं.
AMRITA BERA said…
Clear cut thinking, no nonsense opinions.
Nice and crisp translation.
Ratnesh said…
adbhut koshish ki hai aap ne
"Vladimir Nabokov" ki uktiyon ko hamtak pahunchane ki....
abhar
Vipin Choudhary said…
केवल टुच्चे महत्वाकांक्षी और सच्चे मीडीऑकर अपने अधलिखे की नुमाइश करते हैं. यह किसी को बलगम के नमूने दिखाने जैसा है.
yeh huee na kuch baat
anuragji ko bhadhai itne achhe anuwad ke liye....nabokov ke avchetan ko samajhna kabhi asan nhi hai....once he said-Lolita is famous, not I. I am an obscure, doubly obscure, novelist with an unpronounceable name.
Rukaiya said…
Jitni khari baatein .. Utna hi khara anwaad ..
Human said…
great quotations,thanks!
एक एक वाक्य सहेजने लायक है..
neelotpal said…
एक-एक शब्द आपकी रंगत बदलता चलता है. आपके चेहरे से स्वत: एक नकली चेहरा अलग हो जाता है. हर लफ्ज अँधेरे और उजाले की गहराई छूता हुआ. एक आवश्यक काव्यात्मक धैर्य... एक महत्वपुर्ण सबब...
Summary said…
>>तुम किसी चीज़ के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जान सकते हो लेकिन उसके बारे में सबकुछ नहीं जान सकते : सबकुछ जान लेने की इच्छा ही हताश करती है.

very practical!
AK said…
You do a good job with translations, Anurag! As I was mentioning yesterday on Susan Sontag translation, you are able to capture the essence of what the writer is saying. Good work!
बेहतरीन चयन और अनुवाद!
तुम किसी लेखक की कृति दिल से नहीं पढ़ते ( दिल से बोदे पढ़ते हैं ) और न अकेले दिमाग़ से ही, इसके लिए दिमाग़ और एक तनी हुई रीढ़ दरकार है.

बढ़िया अनुवाद! :)
love verma said…
anurag bhai, behtarin kam.....lekhak se pehli bar muthbhed....or us ne hila diya....मुझे नहीं लगता कि एक कलाकार को अपने चाहनेवालों के लिए व्याकुल होना चाहिए. उसका सबसे बड़ा चहेता तो वह शख्स है जो हर सुबह उससे हजामत बनाते हुए आईने में मिलता है.me salon se is bat ka anusaran karta aa raha hu ki kavita kavi pehle khud k liye likhta he......
achha laga padh kar.anuvad sahaj laga.

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…