Skip to main content

कि दोष लगते देर नहीं लगती/ न गाँठ पड़ते



अम्बर रंजना पाण्डेय  की दो नई कविताएं / चित्र : रवि वर्मा ]

१. 
किसी स्त्री की परपुरुष से इतनी
मैत्री ठीक नहीं देवि

कि दोष लगते देर नहीं लगती 
न गाँठ पड़ते

मेरा क्या मैं तो किसी मुनि का 
छोड़ा हुआ गौमुखी कमंडल हूँ 
जो लगा कभी किसी चोर के हाथ 
कभी वेश्या तो कभी किसी ढोंगी ब्रह्मण के

तुम्हारा तो अपना संसार है देवि
अन्न का भंडार हैं शय्या है
जल से भरा अडोल कलश धरा है
तुम्हारे चौके में
संतान है स्वामी हैं 

भय नहीं तुम्हें कि रह जाऊंगा 
जैसे रह
जाता हैं कूकर रोटी वाले गृह में

चोर हूँ तुम्हारी खिड़की से लटका 
पकड़ा ही जाऊंगा 
मेरा अंत निश्चित है देवि
मेरा काल देखो आ रहा है

मसान है मेरा ठिकाना 
शव मेरी सेज
देखो मुझसे उठती है दुर्गन्ध 
युगों जलती चिताओं की

मत लगो मेरे कंठ 
मेरे कंधे पर नाग का जनेऊ 
मेरे कंठ में विष है देवि.
****

२.
अधगीले चौके में वह
छौंकती है खिचड़ी आधी रात
उजाले को बस डिबरी है
सब और सघन अंधकारा है

मावठा पड़ा है पूस की काली रात
शीत में धूजते है
उसके तलुवे
मुझे लगता है मेरे भीतर
बांस का बन जल रहा है

सबसे पहले धरती है पीतल
भरा हुआ लोटा सम्मुख, फिर पत्तल पर 
परसती हैं भात धुन्धुवाता
सरसों-हल्दी-तेल-नौन से भरा

'यहीं खिला सकती हूँ
मैं जन्म की दरिद्र, अभागिन हूँ 
खा कर कृतार्थ करें
इससे अधिक तो मेरे पास केवल यह
देह है
मैल है धूल है, शेष कुछ नहीं'

संकोच से मेरी रीढ़ बाँकी होती 
जाती है ज्यों धनुष 
वह करती रहती है प्रतीक्षा 
मेरे आचमन करने की
कि मांग सकें जूठन 

और मेरी भूख है कि शांत ही नहीं होती
रात का दिन हो जाता है
अन्न का हो जाता है ब्रह्म.
****

Comments

Manohar said…
bahut hi sundar kavitayen..Umber ji or Anuraag ji ko badhai :)
बहुत-बहुत सुंदर... कविताएँ
सागर said…
पहली कविता बहुत सघन है, खुद के होने, खुद के होने में प्रेम के होने और उसे नकारने का द्वन्द लिए, एक ऐसी स्थिति ना निगला जाये न उगला जाए.

दूसरी कविता के बिम्ब बहुत प्रिय और सुन्दर हैं...

और चित्र सबद पर हमेशा की तरह लाजवाब... सबद - एक क्लासिक ब्लॉग, ब्लॉग नहीं सुसंपादित पत्रिका.
anjule shyam said…
वाह कमाल का रचा है ये कविता.....बार बार पढ़ रहा हूँ...और समझने की कोशिश कर रहा हूँ...
दोनों ही बहुत अर्थमयी कवितायें।
उफ! आह!! वाह!!! आप हंसेंगे संभवतः पर यह सत्य है कि मैं रचनाकार के स्थूल अस्तित्व से अपिरिचित हूं पर उनका काव्य संसारातीत है। आपसे मिलें, तो कहिएगा...स्तब्ध है एक पाठक और अतीत के बिंबों से जूझ रहा है।
मत लगो मेरे कंठ
मेरे कंधे पर नाग का जनेऊ
मेरे कंठ में विष है देवि......

यहीं खिला सकती हूँ
मैं जन्म की दरिद्र, अभागिन हूँ
खा कर कृतार्थ करें
इससे अधिक तो मेरे पास केवल यह
देह है
मैल है धूल है, शेष कुछ नहीं'

.आरे वाह भाई वाह ...दोनो बहुत गज़ब की जीवन की अन छुए पलों की या इन्सान को दोराहो पर लाकर खड़े करने की प्रासंगिक अभिव्यक्ति शब्दों की अम्बर रंजना जी की ....बहुत दिनों बाद इस तरह की कविता पड़ने को मिली ...धन्यवाद अनुराग जी शेयर करने का
dinesh trapathi said…
dono hi kavitayen prabhavpoorn. aapko va ambar ji ko badhayee.
उम्दा कविताएं...
बेहतरीन कविताएं!!!
शीत में धूजते है उसके तलुवे/मुझे लगता है मेरे भीतर बांस का बन जल रहा है...
वह करती रहती है प्रतीक्षा/मेरे आचमन करने की/कि मांग सकें जूठन/
और मेरी भूख है कि शांत ही नहीं होती/रात का दिन हो जाता है/अन्न का हो जाता है ब्रह्म..
--- अद्भुत पंक्तियां!!!
sudipti said…
कविताएँ और चित्र दोनों एक दूसरे को पूरा करते दिखते है
चित्र काव्यात्मक है और कविता चित्रात्मक
अम्बर ओर अनुराग दोनों को धन्यवाद
sushobhit saktawat said…
hamesha ki tarah sunder, maulik aur ek vilakshan kavya parampara ko pradarshit karti hui aapki ye kavitayein.
Teji Grover said…
Umber, beech beech me tumhari kavitaen jugnuon kee tarah ekdam paas aa jaati hain, bachpan kee yaad ho jaise koi, kyonki ab jugnu kahan!
पठनीय कविताएँ।
वाह, गीत जी के कहने पर पढ़ा। बेहतरीन कविताएं ।

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…