Skip to main content

पीयूष दईया की दो कविताएं

गीत चतुर्वेदी के लिए लिखी जा रही
एक काव्य-श्रृंखला से दो कविताएं


जब मैं कविताएं पढूं


देखना
जब मैं कविताएं पढूं
तब सभागृह में कोई न हो
जैसे भाषा या जीवन में

पढ़नेवाला
तो कत्तई नहीं
और सुननेवाला कल्पना तक से बाहर

और दर्शक भी
न रहे

आत्मा
जब मैं कविताएं पढूं

लिखता हुआ मिलूं
****
जाल जुलाहा

जाल जुलाहा
अकेला

जागा
अपने लिए

सारी आंख
जहां कोई पक्षी नहीं है

एक पिंजरा आकाश में
सीढ़ी है

गए फूलों से
वहां

या बारिश में गिर
एक बच रहा

है
जाल जुलाहा
****
( पीयूष दईया ने सबद पर इससे पूर्व भी हकु शाह के साथ अपनी बातचीत छपाई है. वह अब पुस्तकाकार ''मानुष'' नाम से आ चुकी है. इसके अलावा चित्रकार अखिलेश के साथ उनकी बातचीत ''अखिलेश : एक संवाद'' नाम से छपी है. वे लम्बे अरसे से कविताएं लिखते रहे हैं और उन्हें बहुत कम छपाया है. मेरे मालूमात में अब जाकर उनकी कविता पुस्तक ''चिह्न'''नाम से छप रही है. सबद पर शीघ्र ही उनकी लिखी हुई कथाएं छपेंगी. उन्हें हाल में कृष्ण बलदेव वैद फेलोशिप दी गई है, जिसके लिए बधाई! गीत चतुर्वेदी पर लिखी अपनी ये कविताएं उन्होंने गीत की एक अत्यंत श्रेष्ठ कविता ''उभयचर'' के सबद पर प्रकाशन के अगले ही दिन बड़े प्रेम-भाव से भेजी थी.)   

Comments

Udan Tashtari said…
दोनों रचनाएँ पसंद आईं...
ssiddhant said…
pyaari kavitayen, pahli to aur bhi pyaari.
shubhkaamnayen.

Ssiddhant Mohan Tiwary
Varanasi.
alok putul said…
इन कविताओं में बारिश के-से अहसास हैं. कहीं गहरे तक भिगोती हुई. गीत जिंदाबाद. जिंदाबाद कि आपके बहाने यह कविता आई.
Anonymous said…
आत्मीयता के एहसास से भरपूर दोनों कविताएं अच्छी लगीं। गीत की लम्बी कविता भी पसंद आई।

-देवमणि पाण्डेय
Sadan Jha said…
एक बहुत गहरे एकांत की चाह लिये दोनो ही कविताओं में मुझे रिक्तता का बोध एक अजीब किस्‍म के फैलाव को लिये हुए मिला। अजीब इसलिये कि यहां शुन्‍यता कोई गणित जन्‍य नही, भाव-जन्‍य है। यह आश भी है और चुभन भी, संकुचन और विस्‍तार दोनो ही के साथ खेलता, दोनो ही को तलाशता।
Dadu said…
इन कविताओं ने पच्चीस साल पहले पढ़ी एक कविता की इन पंक्तियों को ताजा कर दिया।
" दार्जिलिंग के अपने होटल की खिड़की खोली तो मन मान से भर उठा, प्रकृति ने मेरे बिना ही यह आयोजन कर लिया! "
गंगानन्द
गहरे भाव बोध के साथ सधे शब्दो की कहन
पीयूषजी को बधाई !

सबद… परिवार केमित्रों से गुजारिश है
संभव हो तो
कृपया निम्न लिंक द्वारा सृजनगाथा पर
मेरी रचना इंतज़ार है …
पर आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया दे ।
http://www.srijangatha.com/Geet1-15Apr_2k10
आभार सहित
- राजेन्द्र स्वर्णकार
bhai pius daiya,
jai ho!
geet chaturvedi ke liye likhi aapki dono kavitayen achhi lagi.mujhe aapka kavita shilp bahut ruchta hai.badhai ho!
aajkal kya karte ho?
kahan rehte ho?
mere blog par bhi padharo-
www.omkagad.blogspot.com
दोनों पसंद आईं.....
दोनों रचनाएं काफी अच्छी हैं।
अच्छी हैं ।

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…