Skip to main content

विष्णु खरे के लेख पर एक बढ़त : रविभूषण

( हमने कुछ हफ्ते पहले विष्णु खरे का भारत भूषण पुरस्कार के तीस वर्षों की अवधि पर लिखा एक लेख छापा था. तब से विभिन्न हलकों में वह लेख विवाद और चर्चा के केंद्र में रहा और अब भी है. दिलचस्प यह है कि उस लेख का जिन लोगों ने विरोध किया है, उसका आधार लेख के भीतर की स्थापनाएं नहीं हैं. उससे उलझने की ईमानदार कोशिश नहीं दिखी है, जो एक तरह से चिंता का विषय है. यह इस बात का सूचक है कि हमारे बीच असहमत होने के लिए जो ज़रूरी अध्यवसाय लोगों को करना चाहिए, उसके बिना बात बनाने का चलन बढ़ रहा है. अपवादस्वरूप प्रभात खबर दैनिक में दिल्ली से दूर बैठे वरिष्ठ लेखक रविभूषण ने पुस्तक ''उर्वर प्रदेश'' की नोटिस लेने के साथ-साथ विष्णुजी के लेख का अपने ढंग से पाठ भी किया है. हम इसे साभार यहाँ दे रहे हैं. इस बीच दो पुष्ट-अपुष्ट बातें भी सामने आई हैं. पुष्ट यह कि विष्णु खरे ने तीस वर्षों तक भारतभूषण स्मृति पुरस्कार समिति में रहने के बाद उससे इस्तीफा दे दिया है और अपुष्ट किन्तु अपने आप में अत्यंत अलोकतांत्रिक और दुखद यह कि उर्वर प्रदेश का वह संस्करण जिसमें विष्णु खरे का विवादस्पद लेख छापा गया है, प्रकाशक उसे कुछ स्वनामधन्य लेखकों के दबाव में हटाकर छापने वाले हैं. अगर यह बात सच साबित होती है, तो हिंदी में वैचारिक असहिष्णुता की एक नई मिसाल ही कायम होगी ! ...)









Comments

विष्णु खरे के लटकों-झटकों ने ही, हर चीज़ को विवादास्पद बना देने की उनकी आदत ने ही इस इतने अच्छे पुरस्कार को भी विवादास्पद बना दिया। भले ही अब कितनी भी लीपा-पोती क्यों न की जाए, मन्तव्य को बदला नहीं जा सकता है। विष्णु खरे ने ठीक किया या
गलत अब इस पर बहस करने से क्या फ़ायदा। अब तो निर्णायक-मंडल ही बदला जा चुका है। और यह पुरस्कार की महत्ता को बनाए रखने के लिए आवश्यक था।
बस एक बात रविभूषण जी से यह कहनी है कि ’प्रजातन्त्र’ शब्द अब खटकने लगा है। अब तो लोकतन्त्र कहा जाना चाहिए। इंगलैंड की तरह भारत में अब किसी राजा या रानी का शासन नहीं है। इंगलैंड में तो प्रजातन्त्र हो सकता है, भारत में तो लोकतन्त्र ही है। जनता ही निर्णायक है।
vaise jo naya bana hai usase chelaa sanskrit ke khatm hone kaa koi aasaar nahi.

pata nahii yah kyaa thaa? kahiin kisi adhikari ki lekhakon ke khilaaf chaal to nahii?
Anonymous said…
मैं भी इस बात से सहमत हूं कि अकेले श्री सिर्फ विष्णु जी हैं जो हमेशा ठीक सोचते हैं,ठीक बोलते हैं, जिम्मेदारी से बोलते है,बिना ईष्र्या-द्वेश के बोलते हैं और निष्पक्ष बोलते हैं। अब भला वे इस सचाई का क्या करें इस हिन्दी संसार में वही सच बोलने वाले सही निर्णय देने वाले नीर-क्षीर का विवेक करने वाले झूठ को नंगा करने वाले और सच का साथ देने वाले कवि-आलोचक-विचारक-सुधारक-संहारक आदि अनेक कामों के लिए इस धरा-धाम पर अकेले भेजे गए हैं। यह तो उनकी बड़ी कृपा है कि इन बेइमान हिन्दी वालों में के बीच होना उन्हांेने स्वीकार कर लिया है और सारे विरोधों के बावजूद साफसफाई का महान काम करते रहते हैं। ऐसे महान निर्णायक आलोचक विचारक की अभिरक्षा में खड़ा हो कर रविभूषण जी ने भी अपनी ईमानदारी का परिचय दिया है। मगर ध्यान रहे रविभूषण जी, आप अपनी ईमानदारी और साफगोई की सनक में कभी विष्णु जी के प्रतिकूल कोई टिप्पणी न कर बैठियेगा। उनके लोकतंत्र में प्रतिकूल टिप्पणी का सिर्फ और सिर्फ उन्हें अधिकार है।

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…