Skip to main content

फिर भी कुछ लोग


चालीस पार को युवा कहने की लापरवाह आदत डाले हम हिन्दी वालों के लिए करीब तीस के व्योमेश शुक्ल का जमा सत्तावन कविताओं का पहला कविता-संग्रह, 'फिर भी कुछ लोग' दिक्कत पैदा करनेवाला है। हम किन नामों से अभिहित करेंगे इस कवि को जिसकी संवेदना का धरातल इतना ठोस और मर्मग्राही है, जिसकी वैचारिक प्रौढ़ता के सामने उनके समवयस कवि किशोर और चालीस पार युवा युवतर सखा नज़र आते हैं ( अगर यह बड़बोलापन लगे तो संग्रह की तीसरी ही कविता पढ़ ली जानी चाहिए : अस्तु ), जो आरंभिक शिल्प-सजगता की बात तो जाने दीजिए, बेसंभाल शिल्प में लिखने का जोखिम अभी से उठा रहा है और जिसे मुक्तिबोध, रघुवीर सहाय, विनोद कुमार शुक्ल या विष्णु खरे जैसे कवियों की लिखी गई कविताओं के लील जाने वाले प्रभाव से बचने, सीखने और रचने का हुनर मालूम है। ऐसे कवि का पहला कविता-संग्रह उसे तुंरत किसी नामावली में खातियाने की हमारी आदत में खलल तो है ही। इससे इतर यह बहुत प्रमाणिक ढंग से इस बात को पुष्ट करने का भी दस्तावेज़ है कि कविता की अभी बिल्कुल अभी वाली पुरानी अवधारणा को कितनी कुशलता से व्योमेश सरीखे कुछ कवि चुपचाप बदल रहे हैं। विष्णु खरे का संग्रह के अंतिम हिस्से में व्योमेश की कविताओं पर एकाग्र लंबा लेख इस उक्ति के आलोक में द्रष्टव्य है। व्योमेश यहाँ से किस ओर रुख करते हैं यह देखना दिलचस्प होगा, क्योंकि कविता के स्वनिर्मित और प्रशंसित प्रासाद में टिक रहने की हिंदी कवियों की नियति से वे परिचित नहीं हैं, ऐसा फ़िलहाल नहीं लग रहा।
****

Comments

abhishek said…
पढ़कर अच्छा लगा। अनुराग वत्स की विशेषता है कि वो जो लिखते हैं, वह मन से लिखते हैं। इसलिए आप जब भी उनका लिखा पढ़ते है, तो सुखद अनुभूति होती है।
सुंदर सुखद अभिव्यक्ति...
बकौल शिरीष मौर्य,व्योमेश शुक्ल की कविताएं समकालीन कविता में नए युग की शुरुआत का विनम्र घोषणापत्र है. मैं इस वक्तव्य से 'विनम्र' शब्द हटा देना चाहूँगा (शिरीष जी से इस धृष्टता के लिए क्षमा-याचना सहित). विनम्रता इस घोषणापत्र का आवश्यक गुण है भी नहीं शायद; बल्कि उसे तो 'इन-योर-फेस' होना चाहिए. 'यथास्थिति को बचा लेने की कोशिशों' और 'दुर्घटनाग्रस्त' होने के खतरों से डरने वाले समकालीनों के खिलाफ़ वक्तव्य देने के लिए कहन में कुछ औद्धत्य ज़रूरी है.
दूरदर्शन से सॅटॅलाइट टेलिविज़न के संक्रमण काल में किशोरावस्था में कदम रखने वाली पीढ़ी का ऐसा गहन अंतर्द्वंद्व और कहीं नहीं मिला. इस भारतीय 'जेनरेशन-एक्स' की दुनियावी उपलब्धियों, फैशनेबल मान्यताओं और अभिनव तौर-तरीकों के आख्यानों के पार जो कुछ 'युवा' है वह व्योमेश शुक्ल की कविता में देखा जा सकता है.
चूंकि रवायत है, पहले संकलन के प्रकाशन पर कवि को बधाई.
Ratnesh said…
kavi ko badhai aur bhavishya k liye anek shubhkamnayen.aapka vishleshan khasa rochak aur uksau hai.

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…