Skip to main content

हिन्दोस्तां हमारा


यह
हम सब के लिए एक ज़रूरी किताब है। इसलिए नहीं कि अदब और अदीब में हमारी किसी कदर दिलचस्पी है, बल्कि इसलिए इस खूरेंजी वक्त में हमारे हिस्से ऐसी नेमतें कम बची हैं। कभी प्रसिद्ध इतालवी चिन्तक-कथाकार उम्बेर्तो इको ने कहा था : ''वही कौम हिंसा पर उतारू होती है जिसका अपने अदब से रिश्ता कमज़ोर पड़ जाता है''। इस नुक्ते पर गौर करें तो यह समझना मुश्किल न होगा कि कहीं-न-कहीं हमारा भी अपने अदब से रिश्ता कमज़ोर या शिथिल पड़ गया है और इसका फायदा फिरकापरस्तों ने उठाया है। अन्यथा यह तथ्य है कि खूरेंजी से कहीं बड़ा तो हमारा संग-साथ रहने-निभाने का इतिहाहै।

वर्षों पहले उर्दू के मशहूर शायर जां निसार अख्तर ने इसी संग-साथ को उसके तमाम रंगोबू में ''हिन्दोस्तां हमारा'' नाम से दो खंडों में पेश किया था। संकलन की खूबी ये जानिए कि शुरूआती सफों में ही यह हमें इस सरलदिमागी से निजात दिला देता है कि उर्दू, जिसे हम अक्सर मुसलमानों की भाषा मान लेते हैं, दरअसल खड़ी बोली के विकासक्रम में अर्जित एक खालिस भारतीय भाषा है और इसने यहाँ की भाषिक संस्कृति के अनुरूप ही खुले मन से हिन्दी, संस्कृत, फारसी, अरबी और तुर्की ही नहीं, अंग्रेजी, फ्रेंच, पुर्तगाली के अलावा उन भाषाओं के शब्दों को भी स्वीकार किया जो ऐतिहासिक कारणों से तब भारत में प्रचलित थीं।

उर्दू-कविता के यूं तो कई मूड्स हैं, लेकिन उसमें राष्ट्रवाद की भी बड़ी प्रखर अभिव्यक्ति मिलती है। उर्दू कविओं की राष्ट्रीयता की एक बानगी इकबाल की इन पंक्तियों में देखिए : ''यूनानो-मिस्रो-रुमा, सब मिट गए जहाँ से / अब तक मगर है बाकी, नामो-निशां हमारा / कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी / सदियों रहा है दुश्मन दौरे जमां हमारा''। राष्ट्र के विरूद गायन के अलावा उसकी सभ्यता-संस्कृति,प्राकृतिक सुन्दरता,तीज-त्योहारों, कलाओं और कथाओं आदि का अद्भुत बखान किताब के पहले खंड में है। यह जानना खासा दिलचस्प है कि मीर के यहाँ की होली और मुन्नवर लखनवी के यहाँ कालिदास का कुमारसंभव कैसा है। अपनी-अपनी काव्यगत विशिष्टताओं के लिए लक्षित मीर, मोमिन, ग़ालिब, फिराक, जोश, जिगर और नजीर को तो हम-आप पढ़ते-गुनते ही आए हैं, अख्तर की मेहनत और मेधा से इस संकलन में उन कविओं को भी जगह मिल सकी है जिन्हें लगातार मरकज़ से हाशिये की ओर ठेला जाता रहा। यह क्या अपने-आप में कम बड़े दस्तावेजी महत्व की बात नहीं है।

दूसरे खंड में उर्दू की उन नज्मों को संकलित किया गया है जिससे देश के राजनीतिक-सामाजिक आंदोलनों को गति और बल मिलता रहा। इन नज्मों में ग़दर से पहले, दौरान और बाद में गुलामी की मुखालफत और जंगे-आज़ादी के लिए की गई ज़द्दोज़हद का विशद चित्रण मिलता है। इनसे गुजरते हुए एक मशहूर उर्दू लेखक की इस अतिशयोक्ति को भी मान लेने का मन करता है : ''अगर हिंदुस्तान की तमाम तारीखी किताबें ख़त्म कर दिए जाएं, तमाम आंदोलनों के वृत्तांत गुम कर दिए जाएं और सिर्फ़ उर्दू साहित्य बाकि रह जाए तो आप हिंदुस्तान की हर युग की ऐतिहासिक श्रृंखलाओं को जोड़ सकते हैं''।


( हिन्दोस्तां हमारा को राजकमल प्रकाशन ने करीब पैंतीस वर्ष बाद इधर फिर से प्रकाशित किया है )

Comments

Amit K. Sagar said…
BAHUT KHUB. realy nice one. आप अच्छा लिख रहे हैं.लिखते रहिये. शुभकामनायें.
---
http://ultateer.blogspot.com
शोभा said…
अनुराग जी
आप सही कह रहे हैं. राष्ट्रीयता आज की महती आवश्यकता है. आप की तरह अगर सब इस तरह सोचें तो देश की दीन दशा न हो.
जानकारी के लिए शुक्रिया !!
sampu said…
पहले विश्व साहित्य को सिलसिलेवार तरीके से अनुवादित कर पाठको तक पहुँचने का कार्य , और फिर हिन्दी/उर्दू साहित्य के उन चुनिंदा रचनाओ को पुनर्प्रकाशित करने की दिशा मे कुछ संतुलित कदम जो पुस्तकालयों के सीलन भरे कमरों मे अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं | सचमुच राजकमल प्रकाशन ने मेरे साहित्य से प्रेम और अध्ययन को काफ़ी आसान कर दिया है | काफ़ी कुछ पढ़ गया हूँ इन दिनों |''हिन्दोस्तां हमारा'' अभी हाथ मे नही आयी है |उपलब्ध होने पर ज़रुर parhunga |

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…