Skip to main content

महेश वर्मा की नई कविता

Joe-Webb-Mixed-Media-Collages

रकीब

एक नाम गड़ता है नींद में
और उंगली ढूँढने लगती है लिबलिबी का ठंडा लोहा
हम दोनो के ख़ाब गुस्सैल तलवारों की तरह टकराते हैं
और तीन रातों में चिंगारियां भर देते हैं

उसकी पीठ किसी से भी मिलती हो
उसका सीना मेरे जैसा नहीं होना चाहिए.

***

रकीब तुम्हारे शक के घर में रहता है शाहजादे
कहकर तीसरी रानी ने जो गज़ल गुनगुनाई वो यूं, के
            तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किसका था
            न था रकीब तो आखिर वो नाम किसका था

फिर मन में लिया आशिक का नाम
और मासूमियत से पूछा -
 " सुबह कोई जोर से पुकारता था आपका नाम सीढ़ियों पर ?"

***

पहली फुर्सत में उसका क़त्ल कर देना चाहिए
ऐसी नसीहत देकर
ज़हरों के बारे में तफसील से फुसफुसाता है ज़हरफरोश
कान के बिलकुल नज़दीक.

सिर्फ़ मेरी बातें सुनकर
जैसा नीला यह कान हुआ है हुज़ूर आपका
ऐसे ही  दुश्मन के नाखून न हो जाएँ
तो ज़हर की बजाये कांवर पर शहद बेचूंगा : यहीं आपकी गलियों में.

***

रकीब सतरों के बीच से बोलता है
वो अक्सर माशूका की आवाज़ में बोलता है
वो एक दोमुहां सांप है
एक ज़हर आलूदा तीर

मैं उसकी इस चाल से क़त्ल हुआ
            कि मुझसे डरकर पीछे हटना
            और पीछे हटते
            मेरे इश्क के बिलकुल करीब पहुँच जाना

मैंने खुद माँगा उससे वो तीर
खुद अपना सीना चाक किया

और बाकी क्या था ?

***


आधी सदी से बैठा हूँ इन झाड़ियों में
के उसका सर कलम कर ही के लौटूंगा

मैंने उसे मार डाला है
सभी दरख़्त यही कह रहे हैं
यही फुसफुसा रही थी घास
यही सरगोशियाँ हवा की

कोई न कोई उसे बता देगा
कौन चाहेगा एक कातिल को ?

***

हम एक ही मौसम की हवाएं थे
एक ही आग को पीकर अंधे हुए दो लोग
एक ही बिजली से दागी गई जीभ लेकर
बोसों को भूले हुए दो लोग

हमें धूलभरी  हवाओं और कांटेदार झाड़ियों ने चाहा है

अगरचे इसने पहले दे दी जान
जीते जी मर जाऊंगा शिकस्त से
***

(महेश वर्मा हिंदी के चर्चित कवि हैं। उनकी कई कविताएं सबद पर पहले भी शाया हो चुकी हैं।)

Comments

Anonymous said…
lover of the beloved ! beautiful creation...
Jyotsna Kumari said…
मैंने खुद माँगा उससे वो तीर
खुद अपना सीना चाक किया.....
Deepak Mishra said…
बड़े गुढ़ और गहराई भरा है,, बेहतरीन।।!!
उसकी पीठ किसी से भी मिलती हो
उसका सीना मेरे जैसा नहीं होना चाहिए.
…इन बेहतरीन कविताओं को पढ़वाने के लिए धन्यवाद अनुराग
Reva Bodas said…
Disturbing but beautiful !
Shruti Gautam said…
कोई दोस्त है न रकीब है,
तेरा शहर कितना अजीब है...

शक के घर में रहने वाले अपना नाम सुन क्यों न चौंक जायें भला | उदासियों और शिकस्तो के गहन तानेबाने को बुनती सुंदर कविताये | "और बाकी क्या था", शुक्रिया :)
चन्दन said…
बन गया रकीब आखिर .... बेहतरीन कविताएँ. स्मृतिवान कविताएँ हैं.

अगरचे इसने पहले दे दी जान
जीते जी मर जाऊंगा शिकस्त से
बेहतरीन कवितायें

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…