सबद
vatsanurag.blogspot.com

कला का आलोक : ७ : छायालोक

7:46 pm



आलपिनों से बिंधी तितलियों का संग्रहालय

                                                            सुशोभित सक्‍तावत

एक अपराधी की वह तस्‍वीर थी, जो अपनी मृत्‍यु की प्रतीक्षा कर रहा था (हर अपराधी की तरह)। अंतिमताओं के प्रणेता रोलां बार्थ को, उनकी स्‍वयं की मृत्‍यु के साल में, उस तस्‍वीर ने बहुत तंग किया था। लगभग व्‍याकुल।
महज़ एक तस्‍वीर ही तो थी!

अलेक्‍सांद्र गार्दनर की एक अनिच्‍छुक क्लिक। वर्ष 1865 का किस्‍सा। लुई पेन नामक नौजवान ने तत्‍कालीन अमेरिकी विदेश मंत्री डब्‍ल्‍यू. एच. सीवर्ड के क़त्‍ल की नाकाम कोशिश की थी। लुई को सज़ा-ए-मौत सुनाई गई। गार्दनर ने काल-कोठरी में मृत्‍यु की प्रतीक्षा कर रहे पेन की एक तस्‍वीर खींच ली थी। बस, इतना ही।

लेकिन इसके पूरे 115 वर्षों बाद जब फ्रांसीसी संरचनावादी दार्शनिक रोलां बार्थ तस्‍वीरों के बेबूझ तिलिस्‍म पर अपनी बेजोड़ किताब कैमेरा ल्‍यूसिडा लिख रहे थे, तो वे इस एक क्लिक पर ठिठक गए। उन्‍होंने लिखा : मैं समझ नहीं पाया इसे कैसे व्‍याख्‍यायित करूं : लुई पेन मर चुका है (यक़ीनन), किंतु ऐन इसी दौरान वह अपनी मृत्‍यु की प्रतीक्षा भी कर रहा है  (जैसा कि तस्‍वीर का वस्‍तुसत्‍य है)। और तब बार्थ ने कहा, गार्दनर की उस क्लिक के बारे में जो सच है, वह शायद सभी तस्‍वीरों के बारे में सच होता है : विगत और वर्तमान की हैरान कर देने वाली सहउपस्थिति, जिसमें आगत का भी एक निवेश है : एक आसन्‍न अवसान का, शाम की मरती हुई धूप का।

वह 1980 का साल था, जब बार्थ ने सहसा छायाचित्रों के भीतर छिपे मृत्‍यु के इस तत्‍व को आविष्‍कृत कर लिया था, जो कि अनिवार्यत: समय और रागात्‍मकता का सहोदर है। हालांकि इससे पहले और बाद में भी तस्‍वीरों पर व्‍यापक विमर्श होता रहा था : सूज़ैन सोंटैग ने उन्‍हें यथार्थ को अपदस्‍थ कर देने वाली कला-नीति कहा था, जैफ़ डायर ने ‘एक अनवरत क्षण’ कहकर उन्‍हें अपूर्व आश्‍चर्यदृष्टि से देखा था तो ग्‍युंटर ग्रास को कैमरे का लेंस ईश्‍वर की आंख के समकक्ष जान पड़ा था : उतना ही बेधक, कीलित कर देने वाला एक आरंभ, जिससे उन्‍होंने अपनी स्‍मृति के अलबम को सजाया था, किंतु इन सबके बावजूद बार्थ की स्‍थापनाओं की कशिश और शिद्दत कुछ और ही रही।
वास्‍तव में तस्‍वीरों के साथ ही यह पहली बार हुआ था कि इतिहास ने कला में सबसे मज़बूती के साथ घुसपैठ करने में सफलता पाई थी। तस्‍वीरें दस्‍तावेज़ीकरण का एक अभिन्‍न आयाम बन गईं। शब्‍दों को झुठलाया जा सकता था, स्‍मृतिलेखा और आंखन देखी तो ख़ैर कभी भी प्रत्‍यक्ष का प्रमाण न थे, शिल्‍प और रूपांकन यथार्थ से विचलन (बकौल प्‍लेटो, दोहरे विचलन!) की शर्त पर ही आकार ग्रहण करते थे, लेकिन एक बार तस्‍वीरों में दर्ज हो जाने के बाद किसी वस्‍तुसत्‍य को नकारना संभव न था। तस्‍वीरें इतिहास की छाती में गड़ा हुआ एक असंदिग्‍ध इशारा साबित हुईं।

लेकिन, इसी के साथ ही इतिहास का अंत भी होता है और एक मिथ आकार ग्रहण करने लगता है, इस सवाल के साथ कि : तस्‍वीरों में दर्ज होने के बाद कोई नाम-रूप और उसका वस्‍तुसत्‍य क्‍या करता है? निश्चित ही वह प्रतीक्षा करता है, किंतु किसकी? कुछ नहीं की? अपने न हो जाने की? ग़ौर से देखें तो सभी छायाचित्र इस प्रश्‍न के समक्ष एक प्रलंबित प्रतीक्षा में ठिठके हुए जान पड़ते हैं  : समय, जिसके बाहर किसी चीथड़े की तरह धूप में सूखता रहता है यथा का अंतिम छोर धारण करता रहता है एक स्‍वप्‍नदेह।

कलाओं और उनमें भी विशेषत: दृश्‍य कलाओं के इतने अनेकानेक आयामों के बीच तस्‍वीरों का विशिष्‍ट इसी में निहित है कि वे नित्‍य और अनित्‍य की संधिरेखा पर ठिठकी हुई होती हैं। तस्‍वीरों में यह अद्भुत क्षमता होती है कि वे हमारे भीतर के अनित्‍य-तत्‍व को एक क्षण में भींचकर दर्ज कर लें, उसे उघाड़कर हमें दिखा दें, लेकिन इसके साथ ही उनमें नित्‍य–तत्‍व को हठात निर्दिष्‍ट कर देने का गुण भी होता है। यह करिश्‍मा वर्तमान और विगत, गति और स्‍थैर्य के एक विलक्षण द्वैत से संभव होता है, जो कि तस्‍वीरों का अनिवार्य क्षितिज है।

और तब यह संभव ही नहीं है कि तस्‍वीरों का यह ‘आदिम रंगमंच’ हमें किसी स्‍तर पर बेध न दे (पेनिट्रेशन की इसी प्रक्रिया को बार्थ ने ‘पंक्‍चम’ कहा है)। तस्‍वीरों में से झांकते उन सफ़ेद चेहरों का रंगमंच, जो एक अंतहीन अंत के कुहासे में थिगे हैं। तब इस बात से फ़र्क नहीं पड़ता कि अवसान का क्षण अभी घटित हुआ है या नहीं (वस्‍तुत: वह पहले ही घटित हो चुका है)। यही कारण है कि तस्‍वीरों में दर्ज आकृतियां हमेशा सुदूर-पार की अफ़वाहें सुनाती जान पड़ती हैं : लैज़रस की तरह।

और तब, सोचता हूं कि कैसा हो अगर तस्‍वीरों को जोड़कर नए सिेरे से दुनिया को रचा जाए : आलपिनों से बिंधी तितलियों का एक संग्रहालय!
***






(आगामी १९ अगस्त को विश्‍व छायांकन दिवस पड़ता है. यह युवा कला-मर्मज्ञ सुशोभित सक्तावत का यह लेख उसी रौशनी में. साथ में दी गई तस्वीर रॉबर्ट फ्रैंक की एक यादगार क्लिक )




Read On 6 comments

सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी