Skip to main content

स्मृतियां जाना नहीं जानतीं



जहां बहुत का 'त' ख़त्म होता हो वहीं से शुरू करना - होना, वहीं से प्रेम.
*
हर प्रेम का अपना अलग व्याकरण है, लेकिन वैयाकरण प्रेमी नहीं.
*
नहीं की निधि में रोज़ एक उदास सिक्का गिरता है.
*
आकांक्षा एक सुंदर फूल है, झर जाने तक, सुंदर और दुर्निवार.
*
आदतों की कोई नैतिकता नहीं.
*
अलगाव एक मृत्यु है, एक ऐसी मृत्यु, जिसका कोई 'संस्कार' अंतिम नहीं.
*
स्मृति-छल मानुष-छल से अलग है, स्मृतियां जाना नहीं जानतीं.
*
थकान पहली निराशा है, अंतिम भी.
*
अंत में सिर्फ़ अभिनय काम आता है.
****
                                                                                                     
                                           
 [ ऊपर इधर लिखे गए कुछ वाक्य हैं. ]
{ साथ दी गई पेंटिंग Sir William Rothenstein की है. }

Comments

अंत में सिर्फ़ अभिनय काम आता है.
मनुष्य इस दुनियावी रंगमंच का सिद्धहस्त कलाकार है.
शब्दों का संवाद गुन रहे हैं।
Ela Charan said…
अंत में सिर्फ़ अभिनय काम आता है
अभिनेता के जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी।
Rajendra Kumar said…
बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.
Vipin Choudhary said…
इन छोटी-छोटी पंक्तियों में जीवन का सच सीधा लेटा हुआ है। जीवन में जिस तरह अभिनय का सहारा लाज़मी है उसी तरह आकांक्षा की सुन्दरता और उसी तरह जीवन में स्मृतियों का ठहराव। विचारों के इन सुंदर मोतियों को पाठकों को उपलब्ध करवाने के लिए शुक्रिया अनुराग
Rukhsana Attari said…
Ashaa aur nirashaa ke dhagon se bune jeevan ke gahre arthon ko itne saral aur kam shabdon me itne asaardar dhang se kahne ka hunar kabile Tareef hai
chaina karmakar said…
words are few to express....these few lines some where touched the inner core of my soul as if i am living these words...silence silence and stillness.....beautiful lines..
आकांक्षा एक सुंदर फूल है, झर जाने तक, सुंदर और दुर्निवार.
mark rai said…
saari panctiyon me kuch na kuch bhaaw chipa hua hai ...khaaskar ye line kaphi achchi lagi..नहीं की निधि में रोज़ एक उदास सिक्का गिरता है....
Om Nishchal said…
आजीवन रहना है सुधि के तहखाने में।
Jyoti Nanda said…
अंत में सिर्फ़ अभिनय काम आता है........आह ..... सच
peer educators said…
स्मरतियाँ कहाँ जाती हैं, वो तो दिल के कौने में दुबक कर बैठ जाती हैं.... पूरी जिंदगी, एक अभिनय सा करती है बस अंत ही सत्य लगता है ....!

अनुपमा तिवाड़ी
madhu said…
बहुत सुन्दर...
Riyaz khan khan said…
zindagi ki biti hui yado ko, apne shabdo mein wyakt karke mano gagar me sagar dal diya h ap ne.
Ratnesh said…
अंत में सिर्फ़ अभिनय काम आता है
.
.
Adbhut hai
बहुत सुन्दर है...एक-एक शब्द!
Vinay Jha said…
अनुराग जी! बहुत अच्छी पंक्तियाँ हैं। कहीं गहरे में अवचेतन मन को छूतीं सी जान पडतीं हैं।।और एहसास दिलातीं हैं कि अतल गहराइयों में एक ही चेतना को संजोये हैं हम सभी। धन्यवाद!

Geet Chaturvedi said…
बड़ी सुंदर पंक्तियां हैं.
खूबसूरत रचना.....
Suman Malik said…
सत्य तुम कितने निष्ठुर हो ...
MarketSpeak said…
Reads as if someone has put together all the 'punch lines' together. They hit you hard, very impactful Anurag.
vandana khanna said…
jeewan ko sundar wakyon mein kaha aapne anurag ji
Madhu Maddy said…
Simply loved the line.
leena malhotra said…
नहीं की निधि में रोज़ एक उदास सिक्का गिरता है. khoobsoorat

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…