Skip to main content

व्योमेश शुक्ल की नई कविता





शुरूआत की शुरूआत या अंत के अंत में


्यास
को लगती है बहुत तेज़ प्यास
भूख कई बार भूखी रह जाती है
नींद को नींद अगर आ गयी तो सपने सपना देखने लगते हैं
झूठ झूठ बोलता है कि वह सच है
सच बोलता है सच कि सच है उसका नाम
ग़लती से हो जाती है ग़लती प्यार को प्यार हो जाता है
सुन्दरता हो जाती है सुंदर चिड़िया चिड़िया हो जाती है आधी रात तक चहकती है - रात की सुबह से रात की रात तक
रात की दोपहर में बंदर तुलसी के पत्ते खाकर अपनी खांसी ठीक कर लेता है
इंतज़ार करता है देर तक इंतज़ार लहरें लहरों की तरह लहराती हुई आती हैं
हवा हवा सी पेड़ पेड़ सा फूल फूल सा

एक
होता है यौवन का बचपन - बुज़ुर्ग यौवन से सीखता हुआ
सीखने की तरह सीखना है छपाक छपाक की तरह
बात बात से बात करती है बात बात से बात करता है
सुबह की सुबह के बाद सुबह की दोपहर के बाद सुबह की शाम शाम की दोपहर

शाम
की शाम सितारों के सितारे और चाँद का चाँद
तुम्हारा आना तुम्हारे आने का इंतज़ार तुम्हारे आने की आहट
तुम्हारे आने की हवा तुम्हारे आने के समाज की राजनीति के आरम्भ के अंत से शुरू होने वाली बात का हल्का सा पुरानापन

यह
जीवन-विन्यास हो भी सकता है
*****


{ व्योमेश शुक्ल की अन्य रचनाओं को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। कविता के साथ दी गई तस्वीर आना आडेन, स्वीडिश फोटोग्राफ़र की। }

Comments

शब्दों और उनके अर्थों में उलझा जीवन।
व्योमेशजी की कविताओं में (मेरी पढ़ी हुई) में संभवतः सबसे अधिक पठनीय .... कविता का यह तेवर कुछ दूसरे कवियों के आस-पास का है, पर प्रीतिकर है । सबसे अधिक पठनीय, इसलिए कह रहा हूँ, क्योंकि इस कविता के साथ यह अनुभव ओढ़ना नहीं पड़ता कि हम कविता के इलाके में है, व्योमेश की सशक्तता और संभावनाओं को बेहतर तरीके से दिखाती हुई यह कविता हमारे भरोसे को अधिक मजबूत करती है ।
dinesh tripathi said…
gazab ki kavita , vyomesh ke pas jivant bhasha hai , shabdo se khelne jadugari hai unke pas . झूठ झूठ बोलता है कि वह सच है
सच बोलता है सच कि सच है उसका नाम. jivan ke sach ko badi sachchayi ke sath dekhne koshish hai.n ye panktiya.n . vyomesh ko badhayi
Ganesh Visputay said…
Another wonderful marvel from a genius after a long. He has rare quality that Indian writers generally miss-imagination. Secondly, he 'breaths'-in every way- in his language which is important quality a poet needs. A poet who expands boundaries, enriches language is a true poet.
Ratnesh said…
Vyomeshji ke SABD or SABAD ki duniya bahut anokhi hai...
sarita sharma said…
pyar aksar galti se yani bina soche samjhe hi hota hai aur galti bhi anayas hi hoti hai.alag rang ki kavita jismein shabdon ka bhookh kai bar bhookhi rah jati hai.
प्रथमदृष्टया खिलंदड़े प्रतीत होते वाक्य-विन्यास की आभासी परत के पार अपनी तमाम सूक्ष्मताओं में ऊभ-चूभ होता एक अनुपम जीवन-विन्यास है इस कविता में . सूक्ष्म से सूक्ष्मतर होता. जीवन की और जीवन में प्रेम की प्रकृति को बारीकी से पकड़ती कविता . व्योमेश में प्रेक्षण और प्रस्तुति की एक अद्भुत सूक्ष्मता है.

एक स्तर पर यह कविता स्वाभाविकता के बचाव और रचाव का गीत भी है. सभी चीज़ें अपने गुणधर्म और प्रकृति/स्वभाव के अनुसार ही काम कर रही हैं.बिना किसी जाहिर फतवेबाजी के यह कविता प्रच्छन्न रूप से जीवन में स्वाभाविकता को बचाने की भी कविता है. ऐसी स्वाभाविकता जिसमें प्यार को प्यार होता है और सच सच बोलता है.......
भूख कई बार भूखी रह जाती है
नींद को नींद अगर आ गयी तो सपने सपना देखने लगते हैं
झूठ झूठ बोलता है कि वह सच है
सच बोलता है सच कि सच है उसका नाम

समय की नब्ज पर उंगली रखती एक बेहतरीन कविता... बधाई व्योंमेश... अनुराग आपका आभार..
vattsala pandey said…
व्योमेश जी की कविता लुभाती है अपने कलेवर में. उनकी कविताओं में प्रयोग बहुत हैं यह नई पीढ़ी की कविता है. बस एक निवेदन है कि जो चीज़ संकेत मात्र से दिखाई जा सकती हो उसे हाथ में लेकर दिखने से वे बचें तो बहुत अच्छा है. अपनी अलग पहचान को बनाए रखने के लिए उन्हें कोई मुश्किल नहीं है. उनकी भाषा यह कम बखूबी कर रही है. नए तेवर पसंद आए अब भी यही कहूँगी.
chandan said…
yeh kavita sachhi aur pavitra hain..kuch cheezein acche buree ke vinyas se bahar hoti hain,sabdon ki shalinta aur prakat karne ka bhav hona kya zyada mahatavapoorna nahi,yeh facebook par lihi jane wali danik aalochna nahi,balki din bhar mein ek nootan /naveen jaisa hai

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…