Skip to main content

आलोचना का पक्ष : २ : नामवर सिंह


आलोचना में पहचान का भी महत्‍व है

जब कोई किसी कविता की गलत व्याख्या करे तो उसे जोर से पढ़वाकर सुनिए. ग़लती पकड़ में आ जाएगी.

किसी रचना में पकड़ने की असल चीज़ है 'स्वर' ! इस स्वर में लेखक की खामोशियाँ भी शामिल हैं; बल्कि ये 'खामोशियाँ' ज़्यादा मानीखेज होती है। घनानंद की 'मौन मधि पुकार' और क्या है? आनंदवर्धन की घंटे-सी गूंजती हुई 'ध्वनि' का अर्थ और क्या है?

कोई रचना अच्छी लगे, लेकिन ठीक-ठीक वजह का पता न चल पाए तो भी आलोचक में यह कहने का साहस होना चाहिए कि रचना अच्छी है. आलोचना में पहचान का भी महत्व है.

आलोचना जैसी कोई निरपेक्ष वस्तु नहीं होती, सिर्फ आलोचक होते हैं- अच्छे या बुरे.

आलोचना औज़ारों का बक्सा नहीं, जिसे पाकर कोई आलोचक बन जाए. अक्ल हो तो एक पेचकस ही काफी है!

कवि अपने बारे में कहे तो कविता हो सकती है, पर आलोचना तो तभी होती है जब रचना के बारे में कहा जाए. आलोचक को अपने बारे में कहने की छूट नहीं है.

आलोचना के बारे में भी आलोचना हो सकती है, ठीक उसी तरह जैसे कविता के बारे में कविता. आत्मरति के खतरे कहां नहीं हैं?

सार्थक उत्तर अपने ही प्रश्नों के होते हैं, लेकिन इसका अर्थ वही समझ सकते हैं जिनके पास अपने प्रश्न हों...

गेटे ने कितना सही कहा था कि हम सचमुच उन्हीं पुस्तकों से सीखते हैं जिनकी आलोचना नहीं कर सकते. अभागे आलोचक के भाग्य में ऐसी पुस्तकें कितनी होती हैं?

मक्स वेबर अक्सर कहा करते थे : 'हर आदमी वही देखता है जो उसके हृदय के पास होता है.' वे गर्दन झुका सकते थे, निगाहें नीची कर सकते थे.

बड़े आलोचकों में कौन है जिसका कोई 'अंधविंदु' न हो! क्या वह 'अंधविंदु' ही उसकी 'अंतर्दृष्टि' का कारण नहीं? पाल डि मान ने इसी को लेकर एक लम्बा-चौड़ा सिद्धांत रच दिया है. प्रज्ञाचक्षु आलोचक सुख की नींद सो सकते हैं!

####

{ इससे पहले इस स्तंभ में आप वागीश शुक्ल के विचार-विंदु पढ़ चुके हैं.
नामवर
सिंह की ये पंक्तियाँ उनकी पुस्तक ''वाद विवाद संवाद'' के आखिरी पन्नों से साभार. }

Comments

अनुराग ये बहुत काम की चीज़ लगायी आपने. कई जटिल प्रसंगों में ....आज भी... अब भी नामवर जी ही काम आते हैं....इसीलिए वे नामवर जी हैं....उन्हें मेरा सलाम.
shabad ke bahane namwarji ko salaam.
नामवर जी कहा सदैव महत्व का होता है। यह हिंदी का भाग्य है कि नामवर जी उसके पास हैं....उनका होना हिंदी की जय जय कार है
बड़ी कठिन राह प्रस्तुत की है आलोचना की । जब पुस्तकों से कुछ भी सीखना संभव न हो तो बड़ी ही रूखा हो जायेगा उन्हे पढ़ना ।
Farhan Khan said…
bahut badeea! pad ke mazaa aa gaya!

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…