सबद
vatsanurag.blogspot.com

व्योमेश शुक्ल की दो नई कविताएं



मैं हूँ और वे हैं


इस बीच कई बार बार धूप खिली. अचार के मर्तबान से गुप्ताजी के सिर तक तक फैलकर उसने मनमाने चित्र बनाये. बहुत दिनों बाद देखकर खुश हो जाऊं, ऐसे आई थी वह. समय के बीतने के साथ उसका कोई सम्बन्ध है ज़रूर. वह आती है और हर याद स्मृति हो जाती है.

वे बिलकुल अभी के स्पंदन, स्पर्श, उल्लास, क्रोध, विरोध और झटके थे. वे मैं थे. मैं वे था. और अब, अब ये धूप है और मैं हूँ और वे हैं.

वे स्पंदन वहीं हैं. उसी बिंदु पर स्थिर और गतिमान क्योंकि गति का यह मतलब नहीं है कि वह हर बार मुझ पर, मेरे वक़्त पर गुज़रे या 'अभी' में हो. वह अभी भी हो सकती है और कभी हो सकती है. जो हुई थीं, वे बातें भी अभी हो रही हैं. बस हम उनमें जा नहीं पा रहे. जो होने वाली हैं वे भी हो रही हैं. हम उनमें जा सकेंगे शायद.

एक साइकिल एक पतंग गालियां बकता हुआ एक बद्तमीज़ तोता, ऐसी ही चीज़ों से बना था संसार. समोसा भी था उसमें - छोटा और सनसनीखेज़ जीवन जीता हुआ, मौत के कुएं में बेतहाशा मोटरसाइकिल चलाता हुआ, नुकीला और अनिवार्य. ठीक है कि एक दुनियादार गड़प है उसकी नियति, लेकिन हिम्मत देखिये जनाब. कल फिर हाज़िर.

मन्ना डे इमरती बना रहे हैं. ये वही नहीं हैं, याने दादा साहब फाल्के वाले. अलग हैं. ये उन जैसे हैं और उन जैसे न भी होते तो भी इनका नाम मन्ना डे होता. बल्कि जो मनुष्य सामने खड़ा इमरती का इंतज़ार कर रहा है उसका भी नाम मन्ना डे होता. कोई भी मन्ना डे होता. किसी को भी मन्ना डे होने का हक़ है. कुछ देर में जो लोग मुर्दा फूँककर आएंगें और इमरती की बजाए भचर-भचर पूड़ी-सब्जी खाने लगेंगे, वे भी होते मन्ना डे. वे भी होंगे मन्ना डे.
****

अंगूर
( अप्रतिम कवि उदयन वाजपेयी के लिए)

और जिस दिन तुम्हें पाता चला कि संज्ञाएं सम्प्रेषण की सुविधा के अलावा कुछ नहीं हैं, तुम स्कूटर चला रहे थे. जिस क्षण यह ख़याल ब्रह्माण्ड को तुम्हारे लिए पुनर्विन्यस्त कर रहा था - वह - इस दुनिया की साधारणता का एक महान क्षण - जब तुम अपने आविष्कार को दे दिए गए थे, तुम्हारे हमसफ़र ने कहा - 'बेबी दी के यहाँ से अंगूर लेने थे...'. लेकिन औदात्य देखो कि यह दुनियादार प्रतिक्रिया अब उसी खोज का हिस्सा है और उसी सफ़र का जिसमें तुम अपने हमसफ़र के साथ कहीं के लिए निकले थे और फ़िलहाल बेबी दी के घर से आगे चले आये हो.
****
{ कवि की अन्य कविताएं यहां.... तस्वीर मधुमिता दास के कैमरे से }
5 comments:

जन संस्कृति मंच महासचिव "प्रणय कृष्ण के लिये" से "अप्रतिम कवि उदयन वाजपेयी के लिये"तक - व्योमेश के संसार का विस्तार हो रहा है। व्योमेश को रज़ा फाउन्डेशन की अशोक वाजपेयी द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित पत्रिका समास के सम्पादन की बधाई देना आप भूल गये, अनुरागजी। जनसत्ता में ख़बर थी आज।


महसूस कर पा रहा हूँ..


व्योमेश की कविताओं में जो विलक्षण बात मुझे नज़र आती है वह इस कविता में भी दिखी. वे प्रायः time और space से खेलते नज़र आते हैं. शब्दों से खिलंदरी तो वे करते ही हैं लेकिन इसी में कुछ नए अर्थ वे पैदा कर देते हैं. बधाई. और हाँ, गिरिराज ने तो मुबारक बाद दे ही दिया है, मेरी तरफ से भी बधाई कबूल करें.
तुषार धवल


सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी