Skip to main content

स्मिता पाटिल

वह खड़ी थी, सीढ़ी के निचले तल पर, मुस्कुराती, मोड़ पर लड़की जिसकी प्रतिभा का प्रस्फुटन अभी होना है.

उसका नाम है स्मिता.

वह खड़ी थी, शर्माती, बम्बई दूरदर्शन स्टूडियो के गलियारे में, अपने आस-पास की दुनिया के शोरोगुल बरदाश्त करती.

फिर, हम उसका न्यूज़ पढना देखते हैं. उस युवती की छवि ने उन ब्यौरों को महत्वपूर्ण बना दिया कि हम चकित रह गए.

जल्द ही इसके बाद, हमने एक मौन अलिखित समझौता किया. ठंडी हवाएं आघात पहुंचा रही थीं...जो हमें आतंकित कर गईं कि हम धरा से अलग हो जायेंगे...लेकिन उस भरोसा था...जिसकी वजह से वह जुडी रही. ज़िन्दगी के अवास्तविक परदे पर सांस लेती रही.

उसका उत्साह कम नहीं होता जब सुबह की मासूम घड़ियों तक हम काम करते, चर्चाएँ करते...आप यही सोचते...कि उषा की पहली आश्चर्यचकित और ऊर्जस्वित करने वाली किरण की आप झलक पा रहे हैं.

यह मुझमें आश्चर्य भर देता, साहसिक काम की खोज में निकले बच्चे की तरह, हम कई बार अपनी माँ के ख़ज़ाने और उसकी निर्मिति को खंगालने की कोशिश करते...लेकिन जितना उससे लेते वह उतना ही अधिक देती.

मैं अत्यंत दुःख के साथ याद करता हूँ कि कैसे उसने अपने भीतर एक बच्चे को पलना चाहा. मैं उसकी सहजता और ख़ुशी याद करता हूँ जब वह बच्चे की नेपकिन्स बदलती. वैसे उसकी आँखों में क्रोध भरा होता जब भय और हिंसा के दानवों के लिए वह चुनौती बन जाती.

वह अपने अंदरूनी स्रोतों से अनजान थी कि उन प्रेरक क्षणों को संजोती जो उसने हमें उपहार में दिए.

उसका प्यार हमेशा सच्चा और पवित्र रहा, हमेशा रहेगा.

कमल के फूल-पराग से जिसके केश से हम आकर्षित थे अपनी पहली सुबह की ताज़गी के साथ-साथ.

Comments

सागर said…
अद्भुत .... ताजगी से भरा...
abcd said…
मैने सुना है ,स्मिता जी अपने जमाने मे पोद्दार/रुइआ college,Mumbai मे जब थि तो वो इत्नि पोपुलर थी कि उस जमाने वहा पर लड्कियो मे jeans पेहनने क फ़ैशन लाने क श्रेय उन्हे हि जाता है / ऎसा सुनने मे आया था कि शायद उनका कोइ relative USA मे था जो उन्हे latestjeans भेजता था,तो पुरे college को इन्तेज़ार रेह्ता था कि,इस बार क्या होगा ?
ये किस्सा यु सुनाया कि--She was a trend setter.
शायदा said…
अच्‍छी पोस्‍ट है अनुराग।
लेकिन एक सवाल भी आता है कि मरे बिना प्‍यार को सच्‍चा और पवित्र कब माना जाएगा::। जीते जी हम जानलेवा अवसाद ही देंगे क्‍या हमेशा:::।
कुश said…
स्मिता पाटिल.. इस नाम को मैं एक सेंसेशन कहूँगा..

बहुत ही उम्दा..
navin rangiyal said…
स्मिता !!! इस नाम को सुनकर मेरे शरीर मै कम्पन होने लगती है ... !!! नहीं ... इस नाम की मेरी कोई सहेली नहीं है ... मै इसी स्मिता की बात कर रहा हूँ ... अनुराग को शुक्रिया ...

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…