Skip to main content

अकेला मेला

अपनी बहुविधात्मक रचनाशीलता के लिए ख्यात रमेशचंद्र शाह की डायरी का पहला हिस्सा 'अकेला मेला' नाम से छप कर आया है। इसमें मुख्यतः १९८० से ८६ तक की इंट्रीज हैं। इस डायरी को पढ़ते हुए मुझे सहसा उनका यात्रा-संस्मरण 'एक लम्बी छांह याद' हो आया। इंग्लैंड और आयरलैंड के छवि-अंकन से बढ़कर वह पुस्तक एक बौद्धिक सहयात्रा का आनंद देती है। इस डायरी में भी वे अपने पाठक को वैसी ही यात्रा पर न्योत रहे हैं। जिस दौर में शाह ये डायरियां लिख रहे हैं, वह उनके लेखन-पठन के महत्वपूर्ण वर्ष हैं। तारीफ यह कि वे अपने लिखने की बात पर पढ़ने को तरजीह देते हैं, इसीलिए उनकी इंट्रीज में किसी लेखक या कृति के बारे में जगहें कहीं ज़्यादा है। यही वे जगहें हैं जो आलोचना के परम्परित बंधाव में आने से रह जाती हैं। शाह साब का आलोचक मन उसे हिसाब में लेता है और किसी कृति को पठनानुभव के इस धरातल पर खोलने में रमता-रमाता है। अहंलीन निजी ब्योरों से भरी डायरियों के बरक्स उनकी डायरी का यह गुण हिंदी में सिर्फ़ उनके सर्जक सखा मलयज की डायरियों में ही मिलता है। हालाँकि मलयज के यहाँ एक दुर्लभ गुण की तरह उनका 'निज' भी उपस्थित है। शाह साब ने इस डायरी में खुद को नेपथ्य में भले रखा हो, पर अज्ञेय या निर्मल वर्मा सरीखे लेखकों के संग-साथ और लेखन का उनके मन पर इन वर्षों में जो इम्प्रेशन रहा है, उसे बखूबी दर्ज किया है। इस डायरी को इसीलिए एक लेखक के सर्जनात्मक मन की तरह पढ़ा जाना चाहिए। एक मन जो इतना खुला और समावेशी है, जो लिखे हुए का प्रभाव ग्रहण करता है, उसकी व्याख्या करता है और उससे जब-तब जिरह कर कृतज्ञ भी होता है। शाह की डायरियों की अगले किस्त की प्रतीक्षा इसी कारण से मन में अभी से है।
****

Comments

दर्शन said…
usi ekant main ghar do jahan par sabhi aavein main na aun.....
nilm said…
akela mela....shayed y wo derpen hoga jo dikhayga...why one is lonely in the crowd...?
शाह साहब की डायरी का स्वागत....पर सोच रहा हूँ कि शाह साहब ने अगर डायरी में ख़ुद को नेपथ्य में रखा है तो फिर डायरी कैसी .....किताब ज़रूर देखूँगा.
abcd said…
एक cameraman जब कैमरे के पीछे होता है तब वो क्या करे ??
उसके पास director के instructions होते हैं,हीरो ,हेरोइने के होते हैं,लेखक के होते हैं,screenplay writer के होते hain,निर्माता के भी होते हैं और उसके काम के आगे एडिटर भी होता है !
और उससे कैमरे को एक आँख की तरह इस्तेमाल करना होता है...ऐसे समय में सबसे श्रेष्ठ उपाय, मेरी नज़र मे,ं कैमरे को दर्शक की आँख मान कर कैमरा घुमाना ही सर्वश्रेष्ठ होता है......

सर्वश्रेष्ठ इसलिए बोला की ये शब्द अच्छा ,बेहतर,बहुत अच्छा और श्रेष्ठ की श्रेणियों को भी गिन रहा है....cameraman और director और लेखक और screenplay writer और निर्माता जिसकी ये फिल्म है(इस संधर्भ में diary)वो नेपथ्य में रहे तो-सर्वश्रेष्ठ है /

बाकी किसी की diary में किसे क्या जानने की या पाने की आशा होती है,और किसे किस्मे आनंद आता है , वो तो है ही -निजी !!

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…