सबद
vatsanurag.blogspot.com

पहली किताब

गोरखपुर में कोई फ़िल्म फेस्टिवल होता है, यह बात तो सुनने में आई थी, पर उस फ़िल्म फेस्टिवल से निकलकर कुछ अनूठा मेरे हाथ भी लग जाएगा, यह सोचा न था। डाक से जब अपने जैसी दुबली-पतली काया की विश्व के महानतम दस फिल्मकारों पर एकाग्र पुस्तक, 'पहली किताब' हाथ लगी, तो इन दिनों इनमें से ज्यादातर की फिल्में जुनूनी ढंग से देखने के अपने निजी शगल को परे कर इसे फौरन घोखने बैठा, कुछ-कुछ इस भाव और उत्तेजना से भी कि यारा जो देखते हो, वह कितना पल्ले पड़ता है, जानो तो सही!

हालाँकि हिन्दी में इससे पहले विनोद भारद्वाज की फिल्मों पर भीमकाय पुस्तक (जो कल आज और कल नाम से छपी है) को पढ़ने के सदमे से मैं अभी भी नहीं उबर पाया हूँ। फिल्मों का कथासार बतानेवाली पुनरुक्तियों से भरी इस पुस्तक को पढ़ने के पहले मेरे लिए कुंवर नारायणजी के सिनेमा पर छिटपुट लेखन से गुजरना जितना प्रीतिकर अनुभव था, उतना ही विष्णु खरे की लगभग अचर्चित पुस्तक, 'सिनेमा पढ़ने के तरीके' को गुनना शिक्षाप्रद। बहुत सी फिल्मों के बारे में फिल्मकार और लेखक के. बिक्रम सिंह की संगत और लेखन से जानकारी मिली। कहना चाहिए कि पहली किताब को पढ़ना भी पठन के इसी समृद्ध अनुभव की एक और कड़ी साबित हुई।

किताब में जिन दस फिल्मकारों का चयन किया गया है, उस पर कुछ नुक्ताचीनी किए बिना आगे की बात इसलिए होनी चाहिए क्योंकि यह प्रकाशन, जैसा कि इसके संपादक योगेन्द्र आहूजा बता रहे थे, कई खंडों में होना है। बहुत संभव है इसमें त्रुफो, गोदार, फेलीनी और अपनी पसंद से कहूँ तो तारकोवस्की, केस्लोव्सकी और वांग कर वाई उन्हीं आगामी चयनों का हिस्सा बनें। बहरहाल, इस पहली किताब में इल्माज़ गुने और जोल्तान फाबरी सरीखे फिल्मकारों पर सर्वथा नए ढंग से शुरू किया गया विमर्श है, तो अपने सत्यजीत और विमल राय की याद भी। बाकी कुरासोवा हैं, बर्गमैन हैं, चैप्लिन और वेल्स के साथ डी सिका और कियारोस्तमी भी।

फाबरी पर लिखते हुए कवि असद जैदी ने उनके कृतित्व को नज़रंदाज़ करने के निहितार्थों को भी उजागर किया है। यह लेख इन मायनों में माध्यम के रूप में फिल्म के प्रतिरोधी कला गुण की क्षमता का भी परिचायक है, जिसे हमारे यहाँ के करोड़ों कमा लेने वाले मुम्बईया फिल्मकार शायद ही हासिल कर पाएं। कुरासोवा के समग्र अवदान पर विष्णु खरे ने गहरे पैठ कर लिखा है तो योगेन्द्र आहूजा ने अर्सन वेल्स की कीर्ति का आधार रहे सिटिज़न केन के बहाने उनकी विलक्षण प्रतिभा पर रोशनी डाली है।

ईरानी फिल्मकार अब्बास कियारोस्तमी पर लिखा गया अजय कुमार का लेख कुछ रिवायती किस्म का हो चला है और इस लिहाज से वह दोनों राय पर लिखे गए सामान्य लेखों की ही श्रेणी में आता है। लगभग गैरसिनेमाई ढंग से अपनी शर्तों पर फिल्म बनानेवाले कियारोस्तमी के बारे में बहुत कुछ अनएक्सप्लोर्ड रह जाता है। यों, किसी एक लेख से ऐसी मांग ज्यादती ही कही जाएगी, पर इसके बेहतरीन नमूने भी इसी पहली किताब में हैं। इल्माज़ गुने, चैप्लिन और डी सिका पर लिखे गए विदेशी समीक्षकों के लेख, जिसे पुस्तक में अनूदित कर दिया गया है, को आगामी चयन का मानक भी माना जा सकता है।

अपनी सम्पादकीय टिप्पणी में योगेन्द्र आहूजा ने लिखा है : यह किताब हम इस उद्देश्य और उम्मीद से प्रकाशित कर रहे हैं कि 'वास्तविक' सिनेमा के संबंध में, जो व्यावसायिक, छद्म सिनेमा से अलग है, जानकारी और रूचि का प्रसार होगा,...जिसका विशेषकर हिन्दी प्रदेशों में घोर अभाव है। इस लिहाज से यह प्रकाशन अपनी कतिपय सीमाओं के बावजूद प्रशंसनीय है।

****

5 comments:

आभार इस जानकारी के लिए.


सिनेमा पर हिंदी में वैसे ही साहित्य कम है। ऐसे में इस किताब का भरपूर स्वागत किया जाना चाहिए।


abhi do pahle hi sanjay joshi ji hamen filman pdane aaye the.unhi se yeh kitab hath lgi.yah lekh padne ke bad mujhe lagta hai ki main kitab me shamil filmkaro ko aur achi tarah samajh paunga


समीक्षा को ऐसा ही होना चाहिए. पढकर किताब पढने की तमन्ना भड़क उठी है. बधाई.


सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी