Skip to main content

पहली किताब

गोरखपुर में कोई फ़िल्म फेस्टिवल होता है, यह बात तो सुनने में आई थी, पर उस फ़िल्म फेस्टिवल से निकलकर कुछ अनूठा मेरे हाथ भी लग जाएगा, यह सोचा न था। डाक से जब अपने जैसी दुबली-पतली काया की विश्व के महानतम दस फिल्मकारों पर एकाग्र पुस्तक, 'पहली किताब' हाथ लगी, तो इन दिनों इनमें से ज्यादातर की फिल्में जुनूनी ढंग से देखने के अपने निजी शगल को परे कर इसे फौरन घोखने बैठा, कुछ-कुछ इस भाव और उत्तेजना से भी कि यारा जो देखते हो, वह कितना पल्ले पड़ता है, जानो तो सही!

हालाँकि हिन्दी में इससे पहले विनोद भारद्वाज की फिल्मों पर भीमकाय पुस्तक (जो कल आज और कल नाम से छपी है) को पढ़ने के सदमे से मैं अभी भी नहीं उबर पाया हूँ। फिल्मों का कथासार बतानेवाली पुनरुक्तियों से भरी इस पुस्तक को पढ़ने के पहले मेरे लिए कुंवर नारायणजी के सिनेमा पर छिटपुट लेखन से गुजरना जितना प्रीतिकर अनुभव था, उतना ही विष्णु खरे की लगभग अचर्चित पुस्तक, 'सिनेमा पढ़ने के तरीके' को गुनना शिक्षाप्रद। बहुत सी फिल्मों के बारे में फिल्मकार और लेखक के. बिक्रम सिंह की संगत और लेखन से जानकारी मिली। कहना चाहिए कि पहली किताब को पढ़ना भी पठन के इसी समृद्ध अनुभव की एक और कड़ी साबित हुई।

किताब में जिन दस फिल्मकारों का चयन किया गया है, उस पर कुछ नुक्ताचीनी किए बिना आगे की बात इसलिए होनी चाहिए क्योंकि यह प्रकाशन, जैसा कि इसके संपादक योगेन्द्र आहूजा बता रहे थे, कई खंडों में होना है। बहुत संभव है इसमें त्रुफो, गोदार, फेलीनी और अपनी पसंद से कहूँ तो तारकोवस्की, केस्लोव्सकी और वांग कर वाई उन्हीं आगामी चयनों का हिस्सा बनें। बहरहाल, इस पहली किताब में इल्माज़ गुने और जोल्तान फाबरी सरीखे फिल्मकारों पर सर्वथा नए ढंग से शुरू किया गया विमर्श है, तो अपने सत्यजीत और विमल राय की याद भी। बाकी कुरासोवा हैं, बर्गमैन हैं, चैप्लिन और वेल्स के साथ डी सिका और कियारोस्तमी भी।

फाबरी पर लिखते हुए कवि असद जैदी ने उनके कृतित्व को नज़रंदाज़ करने के निहितार्थों को भी उजागर किया है। यह लेख इन मायनों में माध्यम के रूप में फिल्म के प्रतिरोधी कला गुण की क्षमता का भी परिचायक है, जिसे हमारे यहाँ के करोड़ों कमा लेने वाले मुम्बईया फिल्मकार शायद ही हासिल कर पाएं। कुरासोवा के समग्र अवदान पर विष्णु खरे ने गहरे पैठ कर लिखा है तो योगेन्द्र आहूजा ने अर्सन वेल्स की कीर्ति का आधार रहे सिटिज़न केन के बहाने उनकी विलक्षण प्रतिभा पर रोशनी डाली है।

ईरानी फिल्मकार अब्बास कियारोस्तमी पर लिखा गया अजय कुमार का लेख कुछ रिवायती किस्म का हो चला है और इस लिहाज से वह दोनों राय पर लिखे गए सामान्य लेखों की ही श्रेणी में आता है। लगभग गैरसिनेमाई ढंग से अपनी शर्तों पर फिल्म बनानेवाले कियारोस्तमी के बारे में बहुत कुछ अनएक्सप्लोर्ड रह जाता है। यों, किसी एक लेख से ऐसी मांग ज्यादती ही कही जाएगी, पर इसके बेहतरीन नमूने भी इसी पहली किताब में हैं। इल्माज़ गुने, चैप्लिन और डी सिका पर लिखे गए विदेशी समीक्षकों के लेख, जिसे पुस्तक में अनूदित कर दिया गया है, को आगामी चयन का मानक भी माना जा सकता है।

अपनी सम्पादकीय टिप्पणी में योगेन्द्र आहूजा ने लिखा है : यह किताब हम इस उद्देश्य और उम्मीद से प्रकाशित कर रहे हैं कि 'वास्तविक' सिनेमा के संबंध में, जो व्यावसायिक, छद्म सिनेमा से अलग है, जानकारी और रूचि का प्रसार होगा,...जिसका विशेषकर हिन्दी प्रदेशों में घोर अभाव है। इस लिहाज से यह प्रकाशन अपनी कतिपय सीमाओं के बावजूद प्रशंसनीय है।

****

Comments

Udan Tashtari said…
आभार इस जानकारी के लिए.
ravindra vyas said…
सिनेमा पर हिंदी में वैसे ही साहित्य कम है। ऐसे में इस किताब का भरपूर स्वागत किया जाना चाहिए।
vidya said…
abhi do pahle hi sanjay joshi ji hamen filman pdane aaye the.unhi se yeh kitab hath lgi.yah lekh padne ke bad mujhe lagta hai ki main kitab me shamil filmkaro ko aur achi tarah samajh paunga
समीक्षा को ऐसा ही होना चाहिए. पढकर किताब पढने की तमन्ना भड़क उठी है. बधाई.

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…