सबद
vatsanurag.blogspot.com

ज़बां उर्दू : ३ : ग़ालिब : पूरा ख़त और आधी ग़ज़ल

  • ख़त

    रखियो
    ग़ालिब मुझे इस तल्ख़ नवाई में मुआफ़
    आज कुछ दर्द मेरे दिल में सिवा होता है

बंदा परवर,
पहले तुमको यह लिखा जाता है कि मेरे दोस्त क़दीम मीर मुकर्रम हुसैन साहिब की खिदमत में मेरा सलाम कहना और यह कहना कि अब तक जीता हूँ और इससे ज़्यादा मेरा हाल मुझको भी मालूम नहीं। मिर्ज़ा हातिम अली साहिब मेहर की जानिब में मेरा सलाम कहना...

तुम्हारे पहले ख़त का जवाब भेज चुका था, कि उसके दो दिन या तीन दिन के बाद दूसरा ख़त पहुँचा। सोनो साहिब, जिस शख्स को जिस शग्ल का ज़ौक हो और वह इसमें बेतकल्लुफ़ उम्र बसर करे, इसका नाम ऐश है। और भाई, यह जो तुम्हारी सुख़न-गुस्तरी है, इसकी शोहरत में मेरी भी तो नामवरी है। मेरा हाल इस फन में अब यह है कि शेर कहने की रविश और अगले कहे हुए अशआर सब भूल गया। मगर हाँ, अपने हिन्दी कलाम में से डेढ़ शेर, यानी एक मक्ता और एक मिसरा याद रह गया है। सो गाह-गाह जब, दिल उलटने लगता है, तब दस-पाँच बार यह मक्ता ज़बान पर आ जाता है -

ज़िन्दगी अपनी इस शक्ल से गुज़री 'ग़ालिब'
हम भी क्या याद करेंगे कि खुदा रखते थे

फिर जब सख्त घबराता हूँ और तंग आता हूँ, तो यह मिसरा पढ़कर चुप हो जाता हूँ -

ऐ मर्गेनागहाँ ! तुझे क्या इंतजार है ?

यह कोई न समझे कि मैं अपनी बेरौनकी और तबाही के ग़म में मरता हूँ। जो दुःख मुझको है उसका बयान तो मालूम, मगर उस बयान की तरफ़ इशारा करता हूँ। अंग्रेज़ की कौम से जो इन रूसियाह कालों के हाथ से कत्ल हुए, उसमें कोई मेरा उम्मीदगाह था और कोई मेरा शागिर्द। हिंदुस्तानिओं में कुछ अज़ीज़, कुछ दोस्त, कुछ शागिर्द, कुछ माशूक, सो वे सबके सब ख़ाक में मिल गए। एक अज़ीज़ का मातम कितना सख्त होता है ! जो इतने अज़ीज़ों का मातमदार हो, उसको ज़ीस्त क्योंकर न दुश्वार हो। हाय, इतने यार मरे कि जो अब मैं मरूँगा तो मेरा कोई रोने वाला भी न होगा।

****

  • ग़ज़ल

ज़ुल्मतकदे में मेरे, शबे गम का जोश है
इक शमा है दलीले सहर, सो खमोश है

ने मुश्दयेविसाल, ना नज़ाराये जमाल
मुद्दत हुई कि आश्तिए चश्मओ गोश है

दागे फिराके सोह्बते शब की जली हुई
इक शमा रह गई है, सो वो भी खामोश है

आते हैं गैब से ये मजामी ख्याल में
ग़ालिब सरीरे खामा, नवाये सरोश है

****

( शब्दार्थ : ज़ुल्मतकदे = अँधेरा घर, दलीले सहर = सुबह का प्रमाण, ने मुश्दयेविसाल = प्रिय मिलन का शुभ संदेश, आश्तिए चश्मओ गोश = आंखों और कानों के बीच की संधि, दागे फिराके सोह्बते शब = रात की महफ़िल के विरह का दाग, गैब = आकाश, सरीरे खामा = कलम की आवाज़ )

****

( १८५८ में अपने शागिर्द मुंशी हरगोपाल तफ्ता के नाम लिखी चिट्ठी में ग़ालिब ने ग़दर का हाल बयान किया है। दी गई ग़ज़ल में भी उस वक्त ग़ालिब की निराश मनःस्थिति का ही वर्णन है। कहना व्यर्थ है कि ग़ालिब ने शायरी में क्या मुकाम हासिल किया और इतने बरस बीत जाने के बाद भी वे हमारे कितने करीब हैं। हाँ, उनके नस्र यानी गद्य, जो खतों और डायरी के रूप में ही सामने है, हमारी दोआबा भाषा में अपनी ठाट का पहला और इंतजार हुसैन के शब्दों में कहें तो गहन औपन्यासिक है। ख़त अर्श मलसियानी के अनुवाद में और ग़ज़ल गुलज़ार की मिर्ज़ा ग़ालिब नामक पुस्तक से। इससे पहले इस स्तम्भ में आप फिराक गोरखपुरी और सफिया अख्तर को पढ़ चुके हैं। कई जगह टाइपिंग के अज्ञान- के कारण नुक्ता नहीं लगा सका, विज्ञ बन्धु क्षमा करेंगे। )

3 comments:

वाकई काबिलेतारीफ काम कर रहे हैं। ग़ालिब का ख़त पढ़ा अभी। अच्‍छा लगा।


रखियो ग़ालिब मुझे इस तल्ख़ नवाई में मुआफ़
आज कुछ दर्द मेरे दिल में सिवा होता है


मिर्जा गालिब की जिंदगी को देखूँ तो आह निकलती है और उनके दिवान ए गालिब को पढूँ तो वाह निकलती है।


सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी