Skip to main content

निधन : सुदीप बैनर्जी

सुंदर (चंद ठाकुर) जब आज का काम ख़त्म करने के ठीक पहले यह बताने आए कि सुदीपजी का निधन हो गया है, तो सहसा यकीन नहीं हुआ। यह अप्रत्याशित था। ख़बर बनाते हुए भी बड़ा अजीब लग रहा था। हिन्दी के एक कवि होने के अलावा उनके बारे में एक अल्पज्ञात तथ्य यह भी है कि वे एक उच्चपदस्थ सरकारी मुलाजिम थे और ऐसा होने के बावजूद समाज की परिवर्तनकामी शक्तियों के साथ थे। कविता में ऐसी संगत बहुत से कवियों ने की है। पर कविता के बाहर भी ऐसा करने का माद्दा और अपने द्वारा ऐसा किए जाने को परोक्ष रखने का संयम बहुत कम लोगों में है। इस लिहाज से वे बहुत अच्छे कवि होने के साथ-साथ बहुत उम्दा इंसान भी थे। उनकी काव्य-भाषा में उर्दू-हिन्दी की मेलजोल शमशेर जितनी ही पक्की है, और अपने समय को दर्ज करने का उनका अलहदा तरीका उन्हें आठवें दशक के कवियों में महत्वपूर्ण बनाता है। सबद सुदीपजी और उनके परिवार के प्रति अपनी शोक-संवेदना प्रकट करता है।

कुछ कविताएं

इतना औसत समय

इतना औसत समय
इतनी गहरी व्यथा
इतना विचलित मन
गाफ़िल अपने ही शोर में


कोई रह-रहकर पुकार उठता
जगाता खौफनाक हसरतों को
पीछे मुड़कर देखने पर
कोई कहीं भी तो नहीं


सधती नहीं यह भाषा
इतना भरा भरा मन
इतने गुज़र गए लोग।
****

नदियाँ मेरे काम आईं

जहाँ भी गया मैं
नदियाँ मेरे काम आईं

भटका इतने देस-परदेस
देर-सबेर परास्त हुआ पड़ोस में
इसी बीच चमकी कोई आबेहयात
मनहूस मोहल्ला भी दरियागंज हुआ


पैरों के पास से सरकती लकीर
समेटती रही दीं और दुनिया
काबिज़ हुई मैदानों बियाबानों में
ज़माने की मददगार
किनारे तोड़कर घर-घर में घुसती रही


सिरहाने को फोड़ती सुर सरिता
दुखांशों से देशान्तरों को
महासागर तक अपने अंत में
पुकारती हुई


मलेनी नेवज डंकनी शंखनी
इन्द्रावती गोदावरी नर्मदा शिप्रा
चम्बल बीहड़ों को पार करती
कोई न कोई काम आई पुण्य सलिला


जैसे ही मैं शिकार हुआ
अब सब मरहले तय करके
व्यतीत व्यसनों में विलीन
दाखिल हुआ इस दिल्ली में उदास


इसका भी भला हो
सुनता हूँ यहाँ भी एक यमुना है
वह भी एक दिन काम ज़रूर आएगी।

****
धीरे-धीरे दरकिनार होते

धीरे-धीरे दरकिनार होते हुए
मैं देख रहा हूँ एक निरर्थक नदी पर
वेगवान है, मेरे हमउम्र
तमाम दोस्तों की दिनचरयाएं
वे सब किनारे लगेंगे अगली सदी में


अगली सहस्त्राब्दि में
अपने नाती पोतों के नाती पोतों के
नाती पोतों के ज़माने तक
हरकत में रहने का दमख़म है उनमें

अपनी इनसानियत में ईश्वर के प्रतिस्पर्धी
उसको पराजित कर भी माफ़ कर देने की
विनम्र शक्ति उनकी जिजीविषा में


मैं और ज़माने का बाशिंदा
अपने दादों-परदादों के दादों-परदादों
के दादों-परदादों के पहले से प्रेतों का हमसाया


धीरे-धीरे लौटते हुए
माँ की कोख से होते हुए
अज़ल की ओर मुखातिब


वे वयस्क होंगे युगान्तरों के बाद
मैं कब का बुज़ुर्ग हुआ
आदमज़ाद के शाया होने से थोड़ा अव्वल।
****


( ये कविताएं कवि की मेधा प्रकाशन से आए प्रतिनिधि चयन से साभार। )

Comments

सुदीप जी के बारे में तुमने जो कुछ भी लिखा, सौ फीसदी सही है अनुराग.
मेरी और अनुनाद की श्रद्धांजलि.
खबर ही ऎसी है मित्र कि जि पर यकीन करना आसान नहीं। सुदीपबैनर्जी की कविताएं मुझे बेहद पसंद है। प्रिय कवि को विनम्र श्रद्धांजलि।
Anonymous said…
thanks for posting the good poems...
by the way i was searching for the Hindi typing tool and found 'quillpad'. do u use the same..?
सर-अवनत मौन श्रद्धांजलि!
Ratnesh said…
Sandeepji ko shradhajali! Kavitayen achhi lagi.

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…