सबद
vatsanurag.blogspot.com

तीन श्रद्धांजलियाँ

12:13 am



पहले कवि-नाटककार हैरॉल्ड पिंटर, फ़िर चिंतक सैमुएल हंटिंगटन और अब चित्रकार मंजीत बावा के निधन की ख़बर आई है। रचना, विचार और कला की दुनिया को इन तीनों ने अलग-अलग ढंग से आलोकित किया। पिंटर ने कवि-नाटककार से आगे जाकर एक सार्वजनिक बौद्धिक की भूमिका का भी निर्वाह किया। मौजूदा वक्त में पिंटर सरीखे लेखक और जन बौद्धिक की प्रजाति लुप्तप्राय है। पिंटर का हमारे बीच से जाना इस सन्दर्भ में और भी दुखद है।

हंटिंगटन
को विचार-विमर्श की दुनिया में उनकी पुस्तक , '' The clash of civilizations and the remaking of world order'' की अत्यन्त मौलिक और विचारोत्तेजक स्थापनाओं के लिए याद किया जाता है। हंटिंगटन ने यह पुस्तक उस दौर में लिखी जब यह प्रश्न जिज्ञासा और आशंका के मिले-जुले स्वर में पुछा जा रहा था कि क्या आने वाले समय में सभ्यताओं का संघर्ष वैश्विक राजनीति के केन्द्र में होगा ? अपनी पुस्तक के ज़रिये उन्होंने इस सवाल का जवाब देने के अलावा सभ्यताओं के संघर्ष के बीच वैश्विक शान्ति और सहअस्तित्व कायम रखने के रास्ते भी बताए। कहना न होगा कि हंटिंगटन द्वारा शुरू किए गए विमर्श का दायरा आज कितना बड़ा हो गया है और एक साथ हम सभ्यतागत संकट और उसके नजदीकी संघर्ष से आए दिन कितना अधिक दो-चार हो रहे हैं। हंटिंगटन की तरह हमें भी तेजी से बदल रही दुनिया में इन सवालों का जवाब ढूंढते रहना होगा।

मनजीत
बावा को उचित ही कई लोग भारतीय चित्रकला में हुसेन, रामकुमार और रजा की पीढ़ी के बाद के चंद विलक्षण चित्रकारों में से एक मानते हैं। रामचंद्रन की तरह उनके यहाँ भी मिथकों का एक गहन चित्रान्वेषण मिलता है। मनजीत ने अपने जीवन के आखिरी तीन वर्ष कोमा में गुजारे।
सबद की ओर से पिंटर, हंटिंगटन और बावा को श्रद्धांजलि।

Read On 3 comments

कुंवर नारायण पर असद ज़ैदी

1:11 pm
'ईमान का खाता' : कुंवर नारायण और उनकी कविता

असद ज़ैदी

धीरे धीरे टूटता जाता
मेरी ही हँसी से मेरा नाता

कुंवर
नारायण का लहजा ऐसे आदमी का लहजा है जिसने बहुत ज़माना देखा है। वह अपने तजरुबे की गहराई, सुलझेपन और अपनी आसानियों से चकित करते हैं और इस राह की दुश्वारियों को ओझल बनाते रहते हैं। काव्यशास्त्रीय नज़र से देखेंतो कह सकते हैं उनके लहजे ही में सब कुछ है। उनको पढ़ते हुए लगता है किउनका काफ़ी ज़ोर अपने इसी लहजे को साधे रखने और इसी ठाठ को बनाए रखने में सर्फ़ होता है--यही उनकी तर्ज़ है। बुफ़ों के शब्दों में : 'द स्टाइल इज़ द मैन'।

पर यह कहना असंगत न होगा कि स्टाइलिस्टों से कुलबुलाते काव्य-परिदृश्य में वह एक महत्वपूर्ण स्टाइलिस्ट-भर नहीं हैं। वह मूलतः नैतिक और सामजिकरूप से अत्यन्त सावधान और प्रतिबद्ध कवि हैं। हिन्दी के अव्वलीन नागरिक-कवि का कार्यभार और अधिकार अब उन्हीं के पास है। एक ज़माना पहले, 1960 के दशक के आरंभिक वर्षों में, मुक्तिबोध ने उन्हें अपने समीक्षात्माक लेख में 'अंतरात्मा की पीड़ित विवेक-चेतना और जीवन की आलोचना' का कवि कहा था। कुंवर नारायण ने हरदम मुक्तिबोध की इस निशानदेही का मान रखा और कभी भी पहचान के इस घेरे से बाहर नहीं गए।

उनकी शाइस्तगी, संतुलन, नर्म-मिज़ाजी और धैर्यशील तबियत की वजह से उन्हें मध्यममार्गी विचारधारा का प्रतिनिधि कवि माना जाता है। यह कोई ग़लत धारणा भी नहीं है पर यह उनके मूल स्वभाव का ठीक से अहाता नहीं करती। वह एक बेचैन, नाराज़ और मेहनती इंसान भी हैं। अपने समय के गंभीर मानवीय सवालोंपर--वे राजनीतिक हों या सांस्कृतिक--वह पोज़ीशन लेने से नहीं बचते। वह अपनी वज़ेदारी या मुरव्वत-पसंदी को बेशतर अपने ईमान के आड़े नहीं आने देते। उनकी तबियत ही को उनकी शख्सियत और काम का समानार्थक मान लेना उन्हें एक पहले से बने खांचे में ढालना है।

यूँ भी आम विमर्शों में 'मध्यम मार्ग' का बहुत भ्रामक अर्थों में इस्तेमाल होता रहता है। अव्वल तो एक ऐसे मुल्क और ज़बान में जहाँ मध्यममार्ग आम तौर पर लद्धड़पन और विकल्पहीनता का ही दूसरा नाम होता है, उसे एक उस्तादाना आत्मविश्वास के साथ आकर्षक, रचनात्मक और नैतिक रूप सेविश्वसनीय बनाना कोई आसान काम नहीं है। दूसरे, कुंवर नारायण का मध्यममार्ग कोई 'सेफ़' या आसान मार्ग भी नहीं है।

उनकी प्रगतिशीलता या गतिशीलता और रैडिकलिज़्म इस बात में है कि वह मध्यममार्ग की ओट में यथास्थितिवाद से समझौता नहीं करते, बल्कि बार बारयथास्थिति की विडंबनाओं और अतियों को ही निशाना बनाते हैं। वह विकल्प कोसम्भव और प्रतिरोध को ज़रूरी मानते हैं। वह उस सिनिसिज़्म को अपने पास नहीं फटकने देते जो सत्ता और प्रतिरोध के दरम्यान, यथास्थिति और विकल्प के दरम्यान, लगातार नैतिक बराबरी खोजता रहता है। नैतिक समतुल्यता की तलाश , बल्कि चाह, हमारे मध्यवर्गीय बुद्धिजीवी जगत का प्रिय शग़ल है जो कि सामाजिक प्रतिक्रियावाद का ही एक रूप है। यह वह लिबास है जोमध्यवर्गीय बौद्धिकों की उरियानी को ढकता है। ऐसा नहीं है कि कुंवर नारायण की नज़र वैकल्पिक राहों के ख़तरों और गड्ढों पर नहीं रहती : वह उनको लेकर ख़ुद को और दूसरों को आगाह और तैयार भी करते हैं, पर किसी हाल में यथास्थिति में रिलैप्स नहीं करते।

कुंवर नारायण ने अपने कृतित्व में जितना ध्यान देखने, सुनने और बोलने में लगाया है उससे ज़्यादा जानने, जज़्ब करने और समझने में सर्फ़ किया है। उनके जैसी अध्ययनशील और मननशील कविता अपने लिए काफ़ी जगह और अवकाश मांगती है। फिर उसे एक दिलकश सादगी, विनम्रता, सम्प्रेषणीयता और लुत्फ़ के साथपेश होना होता है। यहाँ भी इसके पीछे की जो मशक़्क़त और उधेड़बुन है वह दिखाई नहीं देती, अपने कारख़ाने को वह ओझल ही रखते हैं। वहाँ निहित ऊर्जा भी अपनी ओर ध्यान नहीं खींचती।

ऐसा किफ़ायत-शुआर कवि जब कहता है 'अबकी बार लौटा तो / बृहत्तर लौटूंगा' तो यह एक बहुत बड़ा वक्तव्य बन जाता है, एक साथ विश्वसनीय और लगभग पौराणिक। कुंवर नारायण का हुनर यही है : उन्हें मालूम है कि उनकी सामर्थ्य का बिन्दु कब और कहाँ आ रहा है। उन्हें उसे पाने के लिए ज़ोरआज़माईश नहीं करनी पड़ती। जब वह कहते हैं कि 'इन गलियों से / बेदाग़ गुजर जाता तो अच्छा था' तो पिछले बीस तीस साल का भारतीय इतिहास ही नहीं, साराका सारा भारतीय दुखांत आंखों के सामने घूम जाता है। इन दो पंक्तियों में क्या नहीं है ? कुंवर जी के काव्य में दर्दमंदी तो है ही, 'अपने ही सिरहाने बैठकर' अपने को देखने की बेदर्द कोशिश भी है।

उनकी
कविता में कई ज़बानों, कई वक़्तों, और कई साहित्यिक संस्कृतियों का संगम है। उन्हें पढ़ते हुए अक्सर कवाफ़िस और लुई बोर्खेस की याद आती है जो उन्हीं जैसे गुणग्राहक और पारखी कवि थे। और उनकी दिलचस्पियों का घेरा भी काफ़ी बड़ा है : इतिहास, पुरातत्व, सिनेमा, संगीत, कला, क्लासिकल साहित्य, आधुनिक विचार, समकालीन विश्व साहित्य, संस्कृति विमर्श। उर्दू की क्लासिकी कविता तो उनकी प्रेरणा का स्रोत रही ही है।

इन
सब चीज़ों पर और बहुत सी बातों पर सोचते हुए जिस एकमात्र हिन्दी कवि की बार-बार याद आती है वह हैं उनके पुराने साथी रघुवीर सहाय, जिन्हें गए अब क़रीब बीस साल हो जाएँगे। दोनों एक ही परम्परा के जुड़वां वारिस हैं, दोनों की अपनी-अपनी ज़मीन है--कुंवर नारायण का इलाक़ा ज़्यादा बड़ा है, उनके यहाँ ज़्यादा चीज़ें, ज़्यादा आवाज़ें, ज़्यादा भाषाएँ और ज़्यादा स्वीकार है। वह कम मध्यवर्गीय और कम परेशान हैं। पर न सिर्फ़ उनके काम एक-दूसरे के पूरक हैं, बल्कि दोनों की खामोशियाँ और नाराज़ियाँ एक ही तरह की हैं। अपनी चुप्पी और फ़िक्रमन्दी में वे बिल्कुल एक हैं। दोनों के शाइर नासिख़ नहीं ग़ालिब ठहरते हैं, और दोनों अनीस से ज़्यादा मीर की महफ़िल में दिखाई देते हैं। उर्दू में जिसे 'देहलवियत' कहा जाता है, हिन्दी कविता में वह चीज़ और वह तर्ज़ लखनऊ के इन दो हिन्दी कवियों में पाई जाती है। वह शोखी से बचते हैं पर अपनी ज़राफ़त दिखाते हुए कहते हैं : 'लगता है कोई भीषण दुर्व्यवस्था / हमारी रक्षा कर रही।'

ज्ञानपीठ सम्मान हिन्दी कविता की इस महान, पर अपेक्षाकृत ख़ामोश, लखनवी परम्परा का सम्मान है।
ज्ञानपीठ पुरस्कार ने भी, जो बीच बीच में बुरी तरह लड़खड़ा जाता है, कुंवर नारायण के बहाने कुछ विश्वसनीयता और प्रासंगिकता वापस पाई है।

( कुंवरजी को हाल में वर्ष २००५ का ज्ञानपीठ पुरस्कार मिलने की घोषणा हुई है। यह लेख उसके बाद ही दैनिक ''आज समाज'' के लिए लिखा गया था। हम असदजी के आभारी हैं जिन्होंने इसे सबद में पुनः प्रकाशित करने की अनुमति दी। इससे पहले सबद में ही कुंवरजी पर क्रमशः पंकज चतुर्वेदी, गीत चतुर्वेदी, गिरिराज किराडू और प्रभात रंजन लिख चुके हैं। )

Read On 6 comments

सिगरेट छोड़ने के बहाने : ओरहन पामुक

11:37 am
लिखना...अगर आपको इसमें सुख मिलता है तो...इससे सारे दुख मिट जाते हैं

ओरहन पामुक

मुझे सिगरेट छोड़े हुए २७२ दिन हो गए। अब आदत हो गई है। मेरा तनाव कम हो गया है और मुझे अब ऐसा नहीं लगता कि मेरे शरीर का कोई हिस्सा टूट रहा है। पर ऐसा असल में है नहीं । सचाई यह है कि एक अभाव की भावना से मैं अब तक नहीं छूटा हूँ। मैं इस सोच की ज़द में रहा कि मुझे मेरे स्व से अलग कर दिया गया है। और ज्यादा सही यह कहना होगा कि अब मुझे ऐसे जीने की आदत हो गई है। निष्ठुर सत्य को मैंने स्वीकार कर लिया है।

अब मैं फिर कभी सिगरेट पीऊंगा। कभी नहीं।

ऐसा कहते हुए भी मैं दिवास्वप्न देखता हूँ कि मैं सिगरेट पी रहा हूँ। अगर मैं कहूँ कि ये दिवास्वप्न इतने भयानक और गोपनीय हैं कि उन्हें हम अपने आपसे भी छिपाते हैं... समझते हैं ? वैसे भी, यह बात ऐसे ही एक दिवास्वप्न के दौरान होगी और उस क्षण जो भी खिचड़ी मैं पका रहा होऊँगा, जैसे-जैसे मैं इस फिल्म यानी कि अपने सपने को शिखर तक जाता देखता हूँ, मुझे उतनी ही खुशी मिलती है जितनी कि पीने के लिए एक सिगरेट जलाने से मिलती है।

तो सुख-दुख, आकांक्षा और हार, उदासी और उल्लास, वर्त्तमान-भविष्य के अनुभव को धीमा कर देना और हर दो तस्वीरों के बीच नई राहें और नए शार्टकट ढूँढना; मेरे जीवन में सिगरेटों का यही मुख्य उद्देश्य था। जब ये संभावनाएँ नहीं रहतीं, आदमी खुद को नंगा जैसा महसूस करने लगता है। कमज़ोर और असहाय।

एक बार मैं एक टैक्सी में बैठा, ड्राइवर एक के बाद एक सिगरेट पी रहा था। गाड़ी के अंदर गहरा धुआँ भरा हुआ था। मैं साँस के साथ धुआँ अंदर खींचने लगा।
'माफ कीजिएगा' उसने कहा। वह खिड़की खोलने लगा था।
'नहीं,नहीं, 'मैंने कहा, 'बंद रखो। मैंने सिगरेट छोड़ दिया है।'
मैं देर तक बिना सिगरेट की चाहत के जी सकता हूँ, पर जब पीने को जी चाहता है तो यह चाहत अंदर गहरे कहीं से आती है।

फिर
मुझे अपना भूला हुआ आपा याद आता है, जो दवाओं, जोड़तोड़ और स्वास्थ्य की चेतावनियों से बँधा हुआ स्व है। मैं वह वापस बनना चाहता हूँ, वह ओरहान जो मैं कभी था, सिगरेट पीने वाला, जो शैतान का सामना करने में कहीं ज्यादा काबिल था।

पुराने ओरहन के बारे में सोचते हुए सवाल यह नहीं उठता कि मैं तुरंत सिगरेट जलाऊँ। पुराने दिनों की वह रासायनिक जुगुप्सा अब नहीं होती, बस अपना पुराना आपा बहुत याद आता है, जैसे कि कोई खोया दोस्त या चेहरा याद आए। बस यही मन होता है कि मैं वापस वह बन सकूँ जो कि मैं कभी था। ऐसा महसूस होता है कि मुझे ऐसे कपड़े पहना दिए गए हैं, जिन्हें मैंने नहीं चुना। जैसे कि उन्हें पहनकर मैं ऐसा कुछ बन गया हूँ जो मैं कभी नहीं था। अगर मैं फिर सिगरेट पी सकूँ तो मुझे फिर पहले जैसे रातों के तीखे अहसास होंगे, उस व्यक्ति के आतंक वापस आ जाएँगे, जो कि मैं खुद को मानता था ।

जब मैं अपने पुराने ओरहन तक लौटना चाहता हूँ, मुझे याद आता है कि उन दिनों मुझे शाश्वत जीवन की बेतरतीब सूचनाएँ आती थीं। उन पुराने दिनों में, जब मैं सिगरेट पीता था, वक्त रुक जाता था। मुझे कभी ऐसा चरम सुख मिलता या कभी इतनी तीव्र पीड़ा होती कि मुझे लगता कहीं कुछ बदलेगा नहीं। मैं मजे से सिगरेट के कश लेता और दुनिया अपनी जगह खड़ी होती।

फिर मुझे मौत से डर होने लगा। कागज़ात में यह गहराई से समझाया हुआ था कि सिगरेट पीता वह आदमी कभी भी गिर कर मर सकता है। ज़िंदा रहने के लिए मुझे धुएँ के नशेड़ी को छोड़ना पड़ा और मैं कुछ और बन गया। ऐसा करने में मैं सफल हुआ। अब मेरा त्यागा हुआ स्व शैतान से जा मिला है और मुझे वापस उन दिनों में लौटने को कहता है जब वक्त हमेशा के लिए रुका हुआ था और कोई मरता नहीं था।

उसकी पुकार से मैं डरता नहीं हूँ।

क्योंकि जैसे कि आप देख सकते हैं, लिखना...अगर आपको इसमें सुख मिलता है तो...इससे सारे दुख मिट जाते हैं।

*****

( पामुक किसी परिचय के मुहताज नहीं। २००६ में नोबेल पुरस्कार से नवाजे गए तुर्की के इस पहले साहित्यकार की कथाकृतियों से आप अच्छी तरह परिचित होंगे। ऊपर पामुक की कथेतर गद्य के चयन ''अदर कलर्स'' से एक अंश दिया गया है। इसका अनुवाद हमारे आग्रह पर कवि-लेखक लाल्टू ने किया है। हम इसके लिए उनके अत्यंत आभारी हैं। हिन्दी के वाक्य-विन्यास आदि को ध्यान में रख कर गद्य के इस टुकड़े में अनुवाद से पुनरीक्षण तक आंशिक बदलाव किए गए हैं। हम आगे भी इस तरह के अनुवाद प्रकाशित करेंगे। )

Read On 6 comments

किस तरह से लिखूं मैं / निवेदिता / कि लगे/ तुम / हो ?

6:59 pm


( वक्त-वक्त पर सबद में नए कविओं को वरिष्ट कवि-लेखकों के समान ही महत्व देकर प्रकाशित किया जाता रहा है। उसी कड़ी में इस बार विपिन कुमार शर्मा की कविताएं दी जा रही हैं। विपिन की कविताएं यों पत्र-पत्रिकाओं में आती रही हैं और वे इतने भी अजाने और नए नहीं हैं कि उनकी कवि-पत्री बांची जाए। पर यह ज़रूर है कि जैसा उनकी कविताओं से किसी काव्य-मुद्रा के असर में न होकर लिखने का पता चलता है, उसी तरह व्यवहार में कवियशःप्रार्थी न होने की वजह से वे अलक्षित होते रहे हैं। ऐसे कई युवा और महत्वपूर्ण कवि हैं जिनकी किसी दरबार में हाजिरी नहीं है और वे अपनी कविताओं के बूते सुधि पाठकों की निगाह में बने हुए हैं। सबद इन कवि-लेखकों का सच्चा सखा बनने की आकांक्षा रखता है। विपिन ने अपनी जो कविताएं दी थीं उनमें से चार कहीं भी पहली बार प्रकाशित हो रही हैं, जबकि पांचवीं कविता पूर्व प्रकाशित है। )

नई कविताएं

सुकवि की मुश्किल

बहुत तड़पकर हाथ मलता है कवि
जब उसे पता चलता है
कल रात
साड़ी दुनिया का प्रेम ओढ़कर
जब वह लिख रहा था प्रेम कविता
ठीक उसी वक्त
पड़ोस की एक लड़की
उसको मदद के लिए पुकार रही थी
किया जा रहा था उसका बलात्कार
लगभग उसी समय
चंद रुपयों के लिए
दबाया जा रहा था गला
एक वृद्ध का
जो परदेस में पसीना बहा रहे
दो मजदूरों का पिता था

और भी जाने कितनी बुरी खबरें लेकर
आया था वह दिन

कवि सोचता है
अगर उस रात
उसने नहीं लिखी होती कविता
तो सुन सकता था वह इन सबकी गुहार
और कुछ न कुछ करता ज़रूर

शर्मसार हो जाता है वह
और चाहता है फाड़कर फ़ेंक दे उस कविता को
फिर कुछ सोचकर रह जाता है

कल रात
कुछ प्रेमी ज़रूर ही लिख रहे होंगे
प्रेम-पत्र
और कुछ प्रेमी रोते रहे होंगे
पूरी रात
इबादत की मुद्रा में
उन सब तक पहुंचानी होगी यह कविता
जीवन जहाँ से बच सके
बचाना होगा
इन दुखों से
पार तो पाना होगा
****
पाषाण युग

सुनते हैं
सभ्यता के विकास-क्रम में
जब आग की खोज अधूरी थी
तो मनुष्य
कच्चा ही चबा जाता था जानवरों को
( इंसानों को नहीं )

फिर जानवर कम होने लगे
इंसानों में बढोतरी होने लगी
फिर भी खाने की समस्या नहीं थी
खाने की चीजें इफरात में थीं
लेकिन
आग नहीं थी

फिर लोगों ने एक अद्भुत तरकीब निकाली
( यह चकमक पत्थर से पहले की बात है )
वे आपस में ही टक्कर मारने लगे
उनके टकराने से
कभी-कभी चिनगारी भी निकल आती
जिससे वे जला लेते आग
उसमें भून लेते खाने को कुछ
इससे खाने की समस्या भी कम हुई
और इंसान भी कम होने लगे

हालाँकि
यह चकमक पत्थर से पहले की बात है
तब मनुष्य
आज की तरह सभ्य नहीं था।
****
किताब के बहाने से : एक

तुमने पढ़कर लौटा दी किताब
आज मेरे पास काम ही काम है

पहले हरेक पृष्ठ
फिर परिच्छेद
और अब एक-एक शब्द को
टटोल रहा हूँ
कहाँ छुपी हुई हो तुम
कहीं से तो निकलो

हरेक शब्द को स्नेह से छूता हूँ, पर
कहीं नहीं मिलती तुम्हारी
कैसी भी पहचान
हारकर, बेसहारा-सा
किताब से आँखें ढँक कर
रो रहा हूँ...

आख़िर कहीं तो मिलोगी तुम !
****
किताब के बहाने से : दो

मैंने कहा ,
'' कितना कुछ है इस कहानी में
अजब-सा प्रेम और आवेग !''
तुमने कहा,
'' ऐसा तो कुछ भी नहीं
निरी भावुकता !''


मैं ऊपर-ऊपर हंस देता हूँ -
'' यों ही कहा था मैंने
तुमने सच कहा
ऐसा तो बिल्कुल नहीं है
इस कहानी में।''

तुम भी खुलकर मिला देती हो
मेरी हँसी में
अपनी हँसी
मगर इतनी-सी बात पर
छलक आए हैं मेरे आंसू

रोना
क्या अकेले ही होगा ?
****
पुराना चावल

किस तरह से

मूल्य बन चुका है
अविश्वास
इस युग का !
कुछ भी विश्वसनीय नहीं
न शब्द
न अर्थ
न भाषा
न लिपि

मैं कैसे लिखूं ''प्यार''
कि उसका अर्थ
घृणा न हो
द्वेष न हो
छल न हो
केवल प्यार हो ?

किस तरह से लिखूं मैं
निवेदिता
कि लगे
तुम
हो ?
****
Read On 13 comments

कवि कह गया है : १ : संजय कुंदन

12:28 pm



कविता के बारे में कुछ बेतरतीब बातें

हिंदी कविता के बारे में दो परस्पर विरोधी बातें कही जा रही हैं। एक तो यह कि अब काव्य परिदृश्य में ऐसा कुछ खास नजर नहीं आ रहा जो ध्यान खींचता हो, युवा कवियों ने ऐसा कुछ नया नहीं जोड़ा जिसे रेखांकित किया जा सके। लेकिन दूसरी तरफ कुछ लोग बेहद आश्वस्त होकर यहां तक कहते हैं कि यह कविता का स्वर्ण युग है। इतने सारे कवि लिख रहे हैं, यही क्या कम है। एक कवि इन दो तरह के वक्तव्यों को किस रूप में ले ? या उसे इन पर ध्यान देने की कोई जरूरत है भी कि नहीं ?

एक बार एक वरिष्ठ कवि ने मुझसे कहा था कि हमें इस बात की चिंता नहीं करनी चाहिए कि हमारे पाठक हैं या नहीं। तब मुझे यह सवाल बहुत दिनों तक परेशान करता रहा था कि क्या कवि अपनी एक स्वायत्त दुनिया में बंद होकर चुपचाप कविता लिखता रहे, किसी गुह्य या रहस्यमय साधना की तरह ? क्या हमें उनकी अपेक्षाओं और शंकाओं से मुंह फेर कर बैठ जाना चाहिए, जिनके लिए हम लिखने का दावा करते हैं ? क्या हमें उनसे यह कहना चाहिए कि मैं जो लिख रहा हूं लिखता रहूंगा तुम्हें समझना है तो समझो वरना भाड़ में जाओ। हमें तुम्हारी परवाह नहीं।

क्या कवि इस बात की चिंता बिलकुल न करे कि वह जो लिख रहा है, उसका आखिरकार क्या होने वाला है ? या वह काव्य परिदृश्य में अपनी भूमिका और कविता की स्थिति या भविष्य पर भी गंभीरतापूर्वक विचार करे ? कविता की सार्थकता और कवि के सरोकार का मामला मुझे रह-रहकर परेशान करता है। यह सवाल हर बार नए रूप में सामने आ खड़ा होता है। मेरे कई साहित्यिक मित्र (जो नियमित-अनियमित रूप से कविता पढ़ते हैं ) यह शिकायत करते रहते हैं कि आज की कविता बिलकुल एक जैसी लगती है। सभी कवि एक तरह से लिख रहे हैं। मैं पहले इसे उनका साहित्यिक अज्ञान मान कर खारिज कर देता था लेकिन अब इसे गंभीरता से लेता हूं और खुद को कठघरे में खड़ा पाता हूं। मेरे उन मित्रों की आपत्ति पूरी तरह सही न भी हो, तो भी हिंदी कविता की वर्तमान भाषा या उसके ढांचे को लेकर गंभीर बहस की गुंजाइश जरूर है।

सच कहा जाए तो हिंदी कविता कहीं न कहीं ठहराव का शिकार होती जा रही है। पिछले दो दशकों में इसकी भाषा में, कहने के अंदाज में कोई अहम बदलाव नहीं आया है। इस अवधि में मोटे तौर पर दो तरह की भाषा प्रचलित रही है। एक तो केदारनाथ सिंह की भाषा, जो कुछ हद तक अपनी संरचना में प्रगीतात्मक लगती है और दूसरी रघुवीर सहाय की नाटकीय भाषा जो गद्य के बेहद करीब है। इन दोनों के बाद उभरे ज्यादातर कवियों ने इन्हीं दो भाषा रूपों को अपनाया। किसी के ऊपर एक का ज्यादा प्रभाव है तो किसी में इन दोनों का मिला-जुला रूप दिखता है। इन दोनों से हटकर एकदम अलग तरह से लिखने का कोई महत्वपूर्ण प्रयास अब तक सामने नहीं आया है। शायद इसीलिए आज की कविता के बारे में कहा जाने लगा है कि हरेक कविता एक ही कवि की लिखी हुई प्रतीत होती है।

गद्य में निहित काव्यात्मक संभावना को विष्णु खरे ने एक उत्कर्ष पर पहुंचाया है। आज कई कवि उसका अनुसरण कर रहे हैं। उसी तरह केदारनाथ सिंह ने अपने भाषा-शिल्प को क्लाइमेक्स पर पहुंचा दिया है। कई युवा कवियों में उसका दोहराव ऊब पैदा करता है। जब भाषा का कोई चौखटा बन जाए तो उनमें कई नए विषयों, संवेदनाओं और अनुभवों के प्रवेश की गुंजाइश कम हो जाती है। शायद इसलिए हिंदी कविता में विषयों-प्रसंगों का भी दोहराव हो रहा है। हालांकि इसकी एकमात्र वजह यही नहीं हो सकती। यह कवियों के अनुभव संसार की सीमा या उनकी वर्गगत सीमा हो सकती है, जिस पर अलग से बहस की जरूरत है।

क्या ऐसा नहीं लगता कि आज काव्यभाषा को एक बड़े झटके की जरूरत है ताकि कविता के लिए कुछ नए रास्ते खुलें, उसका एक नया तेवर, नया मिजाज सामने आए ? लेकिन यह बदलाव क्या होगा, कैसा होगा इस बारे में किसी तरह का अनुमान लगाना मुश्किल है। इसके बारे में कोई बना-बनाया सिद्धांत भी नहीं है।

कई बार नए रास्ते की तलाश के लिए पीछे मुड़कर देखना होता है। अक्सर भाषा-शिल्प का रिवाइवल भी होता है। मुमकिन है हर कवि अपने स्तर पर इस सवाल से जूझ रहा हो और अपने तरीके से हाथ-पैर भी मार रहा हो। लेकिन यह कुल मिलाकर एक जोखिम है जिसे स्वीकार करना आसान भी नहीं है। सच कहा जाए तो कवियों में इससे बचने की प्रवृत्ति ज्यादा रही है। कुछेक अपवादों को छोड़ दें तो आम तौर पर भाषा संबंधी प्रयोग दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता। इसकी एक वजह यह है कि हिंदी में एक खास तरह का सौंदर्यशास्त्र हावी है। उसी के तहत लिखने वालों को प्रोत्साहन-पुरस्कार आदि मिलता है। एक युवा कवि एकदम नए रास्ते अपनाकर गुमनाम होने की बजाय प्रचलित काव्यरूढि़ का दामन थामकर तुरंत-फुरंत कवि होने का तमगा हासिल कर लेना बेहतर समझता है।

असल दिक्कत यह है कि कविता के संसार में पाठकी दखल कम से कम है। कवि को पहचान वरिष्ठ कवियों या आलोचकों से मिलती है न कि पाठकों से। अब यहां यह सवाल सामने आता है कि क्या हिंदी कविता की नियति एक छोटे से क्लब में सीमित हो जाने में है या उसका हिंदीभाषी जनता से भी कुछ लेना-देना है ? कहीं ऐसा तो नहीं कि यह समय ही कविता के ड्राइंग रूम में बंद हो जाने का है ? फिर हम उस काव्य परंपरा का क्या करें जो हमें नागार्जुन-त्रिलोचन जैसे कवियों से मिली है ?
****

( संजय कुंदन जाने-माने कवि-कथाकार हैं। उनके दो कविता संग्रह और एक कहानी संग्रह प्रकाशित हैं। कविता के लिए उन्हें वर्ष १९९८ का प्रतिष्ठित भारतभूषण अग्रवाल सम्मान मिल चुका है। सबद में संजय जी का लिखना लंबे अरसे से टल रहा था। पर जब उन्होंने अपना यह पर्चा लिख कर दिया तो लगा इस देरी की एक तरह से भरपाई हुई। उन्होंने अपने पर्चे में जोखिम लेकर कुछ बहुत ज़रूरी सवाल उठाये हैं। ऐसे सवालों का सामना न करने में ही कई बार हम अपनी सुरक्षा महसूसते हैं और गर सामना करना ही पड़े तो अक्सर किसी बौद्धिक तैयारी के बगैर पिष्टपेषण करते हैं। )

Read On 9 comments

सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी