सबद
vatsanurag.blogspot.com

हम उम्मीद करें ...

अभी थोड़ी देर पहले ही मुंबई में धमाके ख़त्म हुए हैं और उसकी पल-पल बदलने और दिल बैठा देने वाली सर्द ख़बरों की ज़द से निकल कर मैं अपने मोर्चे पर आया हूँ। इसे आंकड़ों में कहने की ज़रूरत नहीं कि देश पर हुए इस फ़िदायीन हमले में कितने निर्दोष लोगों का खून बहा। यह ज़रूर है कि इस नाजुक मौके पर सुरक्षा बलों और मीडिया ( एकाध टी आर पी पीड़ित चैनल्स को छोड़कर ) ने जितनी तत्परता और जिम्मेदारी का परिचय दिया वह काबिलेतारीफ है। यह भी गौरतलब है कि इस मौके को कुछ सियासी दलों ने अपनी राजनीति चमकाने के लिए मुफीद समझा पर उनके मंसूबे किस कदर मखौल का विषय बन गए हैं यह किसी से छुपा नहीं है। यह एक लोकतंत्र के रूप में हमारे वयस्क होने का भी प्रमाण है। ऐसी घटनाओं के बाद जिस एक बात की ओर ध्यान जाना लाजिमी है, वह है हमारे नीति-निर्माताओं का बयान। चूँकि वह इतना घिसा-पिटा और दरहकीक़त इतना बेअसर है कि उसे लेकर हमारे मन में गुस्से और तकलीफ का भाव एक साथ जगता है। हम उम्मीद करें कि उनके ये बयान महज कोरी बातें न रहकर स्थिति में बदलाव लाने में भी सक्षम होंगे।

सबद मुंबई में जान गंवाने वाले तमाम निर्दोष लोगों और उन्हें बचाने की मुहिम में शहीद हुए सुरक्षा बलों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना प्रगट करता है।

4 comments:

हम उम्मीद करें कि उनके ये बयान महज कोरी बातें न रहकर स्थिति में बदलाव लाने में भी सक्षम होंगे।
>नेतों के झुठे वादे और फिर भी उम्मीद- कब तक...आखिर कब तक!


Whatever happened in Mumbai, is no doubt the beggest terrerist attact so far in india. But this is an event of a series of such activities coming from banglor to ahmadabad, to jaipur, to surat, to delhi to mumbai. Now the billion doller question is whether we indian and its govt will continue to see and over react after seeing tv & reading newspaper or we would really take any lession? Why our govt is not take some serious action on the terrerist camps running in pakistan? Why our intelligence is not being strengthen? Why our own officials & politicians are not avoiding takiing vested interest from such attacks? Why no blast accused has been punished so far?


Where is
RAJ THACKERAY and his "brave" Sena? Tel him that 200 NSG commandos from Delhi (NO Marathi Manoos!!! All south & north Indians have been sent to Mumbai to fight the terrorists so that he can sleep peacefully......

Plz forward this so that it finally reaches to coward bully!!! Tel him not destroy my country's sovergnity.........!!

Jai Hind - Jai Bharat!!!!
Be True Nationalist rather bihari, marathi, panjabi et al.... Let's Be United in the fight against Terror!!!!!!!!


prtyek hamle k bad hamare neta aise hi byan baji karte h.hamare pas achhe neta k kami h isliye bhi yakin kar lete h.achhi soch wale yuwako politics m aane ki zarurat h jo ki sahi samay par sahi action le sake.abhi khuni khel shahro me chal raha h village tak pahunchne m jyada time nahi lagega


सबद से जुड़ने की जगह :

सबद से जुड़ने की जगह :
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / अजंता देव / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ठ / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / ज़बिग्नियव हर्बर्ट / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / सबीर हका / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी