Skip to main content

हाशिया...

ज़रूरी नहीं कि हर बार मूर्खताएं हास्यास्पद और इसलिए उपेक्षणीय भी हों। असद जैदी जैसे कवि और उनकी कविताओं के साथ किया जा रहा सलूक दरअसल एक शरारतपूर्ण सोच और वयस्क मूर्खता की उपज है, इसलिए इसकी कड़े शब्दों में निंदा की जानी चाहिए। इतना स्पष्ट है कि उनकी कविता को समझने-बूझने की सलाहियत ऐसे लोगों में न के बराबर है जो खुद को अन्यथा कविता-प्रेमी और प्रथमतः साम्प्रदायिकता का विरोधी भी मानते हैं। उनके ऐसे दावों की पोल तभी खुल जाती है जब वे कविता और कवि के प्रति अपने उदगार प्रकट कर रहे होते हैं। दूसरे, सारे हो-हल्ले में कविता में ज़ज्ब उस तकलीफ को अनसुना कर दिया गया जिसकी ओर सबसे ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए था। १८५७ वाली कविता का हवाला देकर बारहा कहा गया है कि इसमें हमारे पूज्य साहित्यकारों को कटघरे में खड़ा किया गया है ( मैं अब भी नहीं कहूँगा कि गरियाया गया है ! )। हिन्दी का हर सजग पाठक जानता है कि उसके विकास में इन साहित्यकारों का कितना बडा योग है। लेकिन जहाँ ये वेध्य हैं, वहाँ इनकी व्याज स्तुति क्यों कर ? आप उस प्रधानमन्त्री के बारे में एक लम्हा सोचिए, '' जो आज़ादी की हर लड़ाई पर/ शर्मिंदा है और माफ़ी मांगता है पूरी दुनिया में/ जो एक बेहतर गुलामी के राष्ट्रीय लक्ष्य के लिए कुछ भी/ कुरबान करने को तैयार है''। शोचनीय यह नुक्ता है, वह नहीं जिसकी ओर इशारा करके इतनी हाय-तौबा मचाई जा रही है। जिनके मालूमात कम हैं वे पता कर लें असद की पहले की कविताओं को पढ़कर, वे आज नहीं, शुरू से ही अहो-अहो वाली शाबाश कविता नहीं लिखते। उनकी कविताएं विचलित करती है, समझ की रूढियों पर सवाल खड़े करती है, उन पर लिखने में बहुतों को दुविधा-असुविधा होती है और इन्हीं चन्द वजहों से उनकी और उनकी कविताओं की अनिवार्यता बनी रहती है। यह अनिवार्यता जो हिन्दी को पिछले तीसेक वर्षों से सुलभ है उसे किसी उन्माद में लांछित करने से पहले उसके महत्व को समझने की एक विनम्र चेष्टा तो करें।

Comments

Ashok Pande said…
आपसे पूरी तरह सहमत अनुराग भाई! इस बेपढ़े हिन्दी समाज में न समझ है न सहिष्णुता.

बहुत क्षोभ है मेरे भीतर भी!
अनुराग जी...आप की इस आवाज के साथ मैं भी अपनी आवाज मिला रहा हूँ...हमें कोई अधिकार नहीं किसी की कविता को ओछे ढंग से प्रस्तुत करने का...
अनुराग जी...आप की इस आवाज के साथ मैं भी अपनी आवाज मिला रहा हूँ...हमें कोई अधिकार नहीं किसी की कविता को ओछे ढंग से प्रस्तुत करने का...लेकिन.....
हों जो दो चार शराबी तो तौबा करलें
कौम की कौम है डूबी हुई मयखाने में
नीरज
नीरज
aalekh said…
aapne bilkul sahi ishara kiya hai.asadji pr utpataang likhkr we unka ya unki kavita ka to kya nuksaan krenge,apne bare me zarur batate chal rahe hain ki unki soch kitni ghatiya hai.
आपसे पूरी-पूरी सहमति है .

मेरी प्रतिक्रिया यह है :

लगभग दो साल से कविता का एक ब्लॉग चलाने और उसमें अब तक चौबीस-पच्चीस हज़ार हिट्स के बावजूद,मोहल्ला पर असद जैदी की कविताओं पर अधिकांश टिप्पणियों का स्वर देखकर मुझे यह लगने लगा है कि ब्लॉग कविताओं के लिए -- गम्भीर कविताओं के लिए -- उचित स्थान नहीं है . अब मुझे इस पर विचार करना होगा कि 'अनहद नाद' को नेट पर जारी रहना चाहिए या नहीं .

जहां तक समीक्षकों की राय का सवाल है,अन्य कवियों की तरह असद जैदी की कविता के बारे में समीक्षक अपनी-अपनी राय रखने के लिए स्वतंत्र हैं. पर एक कवि की कविता के पास जाने के लिए जिस आधारभूत संवेदनशीलता और अभिधा की ऊपरी परत खुरचकर अर्थ के संधान की जिस पैनी दृष्टि की ज़रूरत होती है उसका अभाव एक औसत समीक्षक को कविता के हत्यारे समीक्षक में तब्दील कर सकता है .

कृष्ण कल्पित के समझदारी भरे प्रतिवाद के बाद अब बहुत कुछ कहने-लिखने की आवश्यकता नहीं रह जाती . सिवाय इसके कि हमें एक-दूसरे के दुखों और बेचैनियों को सही परिप्रेक्ष्य में समझने की ताकत मिले .

असद जैदी की कविता समझने के पहले हमें उनकी बेचैनी को समझना होगा . जो उस बेचैनी को समझेगा वही उनकी कविता को ठीक-ठीक समझ पाएगा .

नेट-चैट के इस माध्यम से जुड़े लोगों के पास क्या इतना समय और धीरज है ?

शोधार्थीजन कहां हैं ?
rachana said…
anurag ji aap ki soch aur khoj dono hi ki me kayal hoon aap sach aur sahi sochte hai
saader
rachana

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…