Skip to main content

सेवेंटीएमएम : 2


संसद
और सिनेमा

विनोद अनुपम

सिनेमा और संसद में कोई सीधा सरोकार नहीं रहने के बावजूद दोनों के स्वभाव में आश्चर्यजनक समानता देखी जा सकती है। आजादी के बाद शुरूआती दौर में जब संसद अपनी जनता के प्रति जवाबदेह थी, तो सिनेमा भी उसी तेवर के साथ सामने आ रहा था। एक तरफ संसद में नेहरू और पटेल थे तो दूसरी तरफ राजकपूर और वी. शांताराम। दोनों के समानुपातिक तेवर पर गौर इसी से किया जा सकता है कि बाद के दिनों में जैसे-जैसे संसद ने जन सरोकारों से अपना मुंह फेरना शुरू किया, सिनेमा भी आम जनता से दूर होती चली गई। अब दोनों के इस समानुपातिक संबंध का विश्लेषण तो अपनी जगह है , लेकिन दोनों के संबंधों में जो घालमेल हुआ वह शायद इस संबंध की नियति थी।

गौरतलब है कि जब तक दोनों जनता के प्रति जवाबदेह रहे, अपनी-अपनी पहचान के साथ संतुष्ट ही नहीं, बल्कि उसकी बेहतरी में भी जुटे रहे। लेकिन जैसे-जैसे संसद और सिनेमा जनता से दूर होते गए उनकी आपसी निकटता बढ़ती चली गई। आज हिन्दी सिनेमा में ऐसे कलाकारों को ढूँढना मुश्किल है जो सांसद, भूतपूर्व सांसद या फिर संसद के भावी उम्मीदवार के रूप में नहीं गिने जा सकते। उसी तरह ऐसे सांसद ढूँढना कठिन है जो सिनेमा के माध्यम से अपनी छवि निखारने की कोशिश में नहीं जुटे हैं। लालू प्रसाद तो इस माध्यम के पुराने खिलंदड़े रहे हैं। अमर सिंह और उमर अब्दुल्लाह की पैठ के बारे में हर कोई जनता है।

सवाल
यह नहीं कि कौन और कितने लोग सिनेमा में आ रहे हैं या सिनेमा से जा रहे हैं। सवाल है ऐसा क्यों ? क्यों गोविंदा या धर्मेन्द्र को लगता है कि वे अभिनय से से ज़्यादा बेहतर राजनीति कर सकते हैं ? क्यों लालू प्रसाद को बड़े-छोटे परदे अपनी जनता के प्रति प्रतिबद्धता से ज्यादा जरूरी लगने लगते हैं ? वास्तव में आज कलाकारों को भरोसा ही नहीं कि वे जिस कला की सेवा में लगे हैं वह एक बेहतर समाज की अनिवार्यता भी है। उन्होंने अपने कला-माध्यम को ही ऐसा बना छोड़ा है जिसमें अब किसी राजकपूर और गुरूदत्त की गुंजाइश नहीं। उधर राजनीतिज्ञों ने अपनी दुनिया इतनी गंदी कर ली है कि अब उन्हें अपनी ही राजनीतिक पहचान से खीझ होती है। सिनेमा के परदे पर दिखना और बाहर सिने-कलाकारों की फौज खड़ी कर जनता के बीच अपनी साख बचाने की उनकी कोशिश कितनी अश्लील है, इसका शायद उन्हें अंदाजा भी नहीं। कुछ माह बाद जब चुनावी समय शुरू होगा, नेता-अभिनेता का एक विशाल और बेमेल गठजोड़ आप देखेंगे ही !

Comments

बढ़िया तुलना की है।
vandana said…
thoda aur wishleshan apekshit rh gaya.
ajay said…
अपनी साख बचाने की उनकी कोशिश कितनी अश्लील है, इसका शायद उन्हें अंदाजा भी नहीं।
yh 100 fesadi sach baat hai.filmon ke bhitar-bahar wimarsh ki gunjaish vinodji ne banai hai yh dekh kar achha laga.
Mungeri said…
विनोद दा आपकी कल्पनाशीलता का जवाब नहीं । आमतौर पर मैं अनुराग के ब्लॉग पर जाकर आपका और यतीन्द्र का लेख पढ़ लेता हूं । दोनों को पढ़ना अच्छा लगता है । अनुराग भी अपने ब्लॉग को लेकर संजीदा है । लगे रहो भाइयो

Popular posts from this blog

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…