Skip to main content

रंग तेंडुलकर की क्षति !

एक उदास ख़बर यह है कि प्रसिद्ध नाटककार विजय तेंडुलकर का 19मई को निधन हो गया। तेंदुलकर को उनके नाटकों ''खामोश अदालत जारी है'' ''घासीराम कोतवाल'' ''गिधाडे'' ''कमला''आदि के लिए जाना जाता है। इसके अलावा उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण फिल्मों की पटकथाएँ भी लिखीं। तेंडुलकर ने मराठी रंगमंच को उसके परंपरागत और ठस रूपबंध से उबार कर बदलते वक़्त से जोड़ा। इसके लिए उन्होंने जो रंगयुक्ति अपनाई वह अप्रत्याशित और विवादास्पद थी। ''गिधाडे'' के बारे में अभिनेता डॉक्टर श्रीराम लागू ने लिखा है : ''सेंसर बोर्ड से नाटक पास हो गया था, पर उसमें करीब डेढ़ सौ आपत्तिजनक शब्दों को हटाने को कहा गया था। रूढ़ अर्थ में जिसे गालियां कहते हैं वे नाटक में बहुत थीं, लेकिन वह गिद्धों की भाषा थी- सुसंस्कृत मानव की नहीं। उन्हें उसी भाषा में बोलना चाहिए। शहरी, सभ्य भाषा में बोलते तो वे गिद्ध नहीं लगते। मनुष्य में गिद्धत्व को प्रखरता से वास्तविक धरातल लाने में इस नाटक की भाषा का बहुत बड़ा योगदान है।'' इस एक टिप्पणी से तेंडुलकर के नाटकों का मिजाज़ समझा जा सकता है। यह भी स्पस्ट होता है कि वे कितने सधे हाथों अपने वक्त की नब्ज टटोल रहे थे। यह जोड़ना ज़रूरी है कि वे उन कम नाटककारों में भी थे जिनकी अपनी भाषा में जितनी ख्याति थी उतनी ही अन्य भाषाओं में सम्मान। उनका जाना इसीलिए अखिल भारतीय स्तर पर रंगपट को कुछ सुना और उदास कर गया है। रंग तेंडुलकर की कमी हमेशा खलेगी। सबद की ओर से उनको नमन!

Comments

bhashkar said…
भारतीय रंगमंच की दुिनया में िवजय तेंडूलकर का न हाेना एक अधूरेपन का एहसास िदलाता है जनमानस के करीबी िवजय काे अब िफर से जनमानस के करीब ले जाना हाेगा तािक बहुत से मसलाें पर नइ राेशानी पड सके
Ritesh Purohit said…
mein vijay tendulkar ke baare me jyada nahi jaanta tha. aapke lekh se unke baare me kuch jaankari mili. thanks
vidya said…
tendultar atyant mahtwpurn lekhak the jinke na hone se rangmach ki duniya men ek bada shunya paida ho gya hai.
Abem said…
tendulkar ka nidhan appurniya kshati hai!
श्रीराम लागू की टिप्पणी वाकई तेंदुलकर जी के नाटकों मिजाज समझने के लिए पर्याप्त है..! आभार..!

Popular posts from this blog

गीत चतुर्वेदी : दिल के क़िस्से कहां नहीं होते

(अब से 'सबद' पर हर पंद्रह दिन में कवि-कथाकार गीत चतुर्वेदी का यह कॉलम प्रकाशित होगा.)



जब से मैंने लिखने की शुरुआत की है, अक्सर मैंने लोगों को यह कहते सुना है, 'गीत, तुममें लेखन की नैसर्गिक प्रतिभा है।' ज़ाहिर है, यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती थी। मैं शुरू से ही काफ़ी पढ़ता था। बातचीत में पढ़ाई के ये संदर्भ अक्सर ही झलक जाते थे। मेरा आवागमन कई भाषाओं में रहा है। मैंने यह बहुत क़रीब से देखा है कि हमारे देश की कई भाषाओं में, उनके साहित्यिक माहौल में अधिक किताबें पढ़ने को अच्छा नहीं माना जाता। अतीत में, मुझसे कई अच्छे कवियों ने यह कहा है कि ज़्यादा पढ़ने से तुम अपनी मौलिकता खो दोगे, तुम दूसरे लेखकों से प्रभावित हो जाओगे। मैं उनकी बातों से न तब सहमत था, न अब।


बरसों बाद मेरी मुलाक़ात एक बौद्धिक युवती से हुई। उसने मेरा लिखा न के बराबर पढ़ा था, लेकिन वह मेरी प्रसिद्धि से परिचित थी और उसी नाते, हममें रोज़ बातें होने लगीं। हम लगभग रोज़ ही साथ लंच करते थे। कला, समाज और साहित्य पर तीखी बहसें करते थे। एक रोज़ उसने मुझसे कहा, 'तुम्हारी पूरी प्रतिभा, पूरा ज्ञान एक्वायर्ड है। तुम्हारा ज्…

ईरानी कविता : सबीर हका : अनुवाद - गीत चतुर्वेदी

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 10 : भुजंग, मेरा दोस्त

कई दिनों की लगन के बाद आज मैंने सौ साल पुराना वह फ्रेंच उपन्यास पढ़कर पूरा कर दिया। किताब का पूरा होना एक छोटी मृत्यु जैसा है। जीवन से ज़्यादा बहुरूपिया मृत्यु होती है। हम सबके पैदा होने का तरीक़ा एक है, लेकिन हमारे मरने के तरीक़े अलग-अलग होते हैं। इसीलिए किताब का पूरा होना हम सबको अलग-अलग अनुभूति से भरता है। मेरा मन अक्सर दुख की एक चादर ओढ़ लेता है। सोचता हूँ, किस बात का दुख होता है? किताब के पूरा होने का दुख? अपने बचे रह जाने का दुख? जिन चरित्रों से मैंने एक मैत्री कर ली, उनके पीछे छूट जाने का दुख? कथा का दुख? या मेरे भीतर सोये मेरे अपने दुख, जिन्हें किताब जगा देती है?
इंदुमति के मृत्यु-शोक से अज रोया था। उसे लिखनेवाले कालिदास रोये थे। उसे पढ़कर मैं क्यों रोता हूँ? क्या मेरे भीतर अज रहता है? कालिदास की कविता रहती है? मृत्यु का शोक रहता है?
हाँ, ये सब रहते हैं। इसीलिए तो, पढ़े व लिखे हुए शब्द, मेरी मिट्‌टी पर उगते हैं।
हमारा हृदय एक पिरामिड है। मरे हुए लोग अपने पूरे साज़ो-सामान के साथ इसमें सुरक्षित रहते हैं- उनके चेहरे नहीं बदलते, उनके कपड़े, गहने, किताबें, उनकी बातें, आदतें, उनके ठह…