Posts

अम्बर रंजना पांडेय की नई कविताएं

Image
महानगर में दो नागरिकों के बीच बने पुल की कविताएं 


बृहद जनारण्य को पारकर चार चक्रयान बदलकर
दो नागरिक प्रतिदिन सायंकाल
भग्न मस्जिद को घेरे वन में मिलने आते है

कसे जूते उतार देता है एक नागरिक
दूसरा चमरस निहारता है थोड़ी देर

वह इतने महानगर हो चुके है
कि केवल बचे हुए है मिलने की टूटी पुलिया पर
जैसे चतुष्पंक्तिक विज्ञापन में
बचा रह जाए कोई पूर्णविराम
जिसकी चरितपंजी अब तक हवाईजहाज़ों से
गिरती राख से चिह्नांकित नहीं हुई

इसी पूर्णविराम को आड़ा कर
दो नागरिक प्रतिदिन सायंकाल
एक पुल बना लेते हैं।


वर्ष के अन्त तक, जब अँधेरा जल्दी हो जाता है
दूसरे नागरिक की प्रतीक्षा में पहला नागरिक
इस महानगर में नष्ट होकर यन्त्र हो चुके

एक नागरिक कवि की पुरानी
कविताओं की किताब नहीं पढ़ पाता
चित्रोपम कविताओं की भूमि पर

मोटरवाहनों का शोर, पखेरुओं की पाँत का
सायंकालीन कलरव और ढही हुई गुम्बद में
रहनेवाले नेवले की निशंक नीरवता भर
जाती है

थोड़े रुपयों में से प्रतिदिन यहाँ आने का भाड़ा
इतनी ही बचत है दोनों नागरिकों की
हारीबीमारी में काम आने को।


दूसरे नागरिक के देर से आने का कारण
उसके हाथ…

गीत चतुर्वेदी : कॉलम 21 : सिल्विया वाले गेरीन की नई फिल्म

Image

स्मरण : विष्णु खरे

Image