सबद
vatsanurag.blogspot.com

सुधांशु फ़िरदौस की कविताएं

2:45 a.m.

Photo : André Kertész


रतजगाई

रात चांद के हंसुए से आकाश में घूम-घूम
काट रही थी तारों की फ़सल
खिड़की से नूर की बूंदें टपक रही थीं  
हमारे स्वेद से भीगे नंगे बदन पर
रतिमिश्रित प्रेम के सुवास से ईर्ष्यादग्ध रात की रानी
अपने फूलों को अनवरत गिराए जा रही थी 
भोर होने वाली थी और नींद से कोसों दूर हम दोनों
एक दूसरे के आकाश में
आवारा बादलों की तरह तितर रहे थे
***

अमृतपान

शरद की पूर्णिमा 
कतिका धान की दुधाई गमक
ओस से भीगी दूब पर
ज़ामिद दो नंगे पैर

चांद को छू लेने की चाह में
गड़हे से बाहर उछल
छटपटा रही हैं
मछलियां 
***

गुलज़ारिश 

तुम्हारे गालों और ठोढ़ी के बीच ये जो तीन तिल हैं ना
काव्यशास्त्र में वर्णित कवियों के तीन गुण हैं

तुम्हारी आंखों में देखते हुए भूल सकता हूं 
सबसे भयानक तानाशाह की सबसे डरावनी हंसी 

मेरे हाथों को अपने हाथों में लिए
तुम्हारा यूं दिल्ली की सड़कों पर बेलौस चलना
सत्ता के दमन के खिलाफ़ किसी जुलूस में चलना है

तालाब के पानी में पैरों को डाले
बतखों के झुंड से अठखेलियां करते हुए
तुम्हारा नेरुदा की कविता 'चीड़ के पेड़ों का गीत' सुनाने का अनुरोध करना
कविता और स्त्री में मेरी अक़ीदत को कितना मज़बूत करता है

बस अड्डे के इंतज़ारी कमरे में मुझे अपनी गोद में लिटा 
धीमे-धीमे कान में तुम्हारा एक सौ सोलह चांद की रातें सुनाना
एक बार गुलज़ार को भी रश्क करने पर मज़बूर कर सकता है 

तुम्हारा साढ़े चार पहर मेरे साथ इतने रंगों इतने ढंगों में यूं रहना
जीवन की एकरसता में इतने रस घोल गया है कि
हृदय संतूर
मन मृदंग हो गया है
***

मेहनताना

उसका ऊपरी होंठ मेरे दोनों होंठों के बीच 

मेरी भाप उसकी भाप से मिलकर 
लफ़्ज़ों के चावल को भात मे बदल रही है

उसने कविता सुनने की इल्तिज़ा की थी
अब मैं उसके भीतर अपनी कविता के मानी तलाश रहा हूं 

बातों-बातों में ही वह हार गई थी मुझसे एक हज़ार चुंबनों की शर्त
और अब मैं उसका मेहनताना चुका रहा हूं   

अब जबकि वह निशाहारी सो चुकी है
कौन ज़्यादा खुशफ़हम है
मेरी कविता या उसके बदन पर उतरती
पूस की सुबह की अलसायी धूप
***

रातों-रात

नंगे पीपल की टहनियों पर
रातों-रात निकल आई पीकें  
घोंसलों के बाहर रातों-रात फुदकने लगे चूजे
रातों-रात दन दिया दैत्याकार थ्रेशर ने पूरा का पूरा खलिहान
सूदखोरों से तंग आकर एक परिवार रातों-रात पार कर गया गांव का सीवान 
रातों-रात काट गायब कर दिया लोगों ने बावन फीट के अंदर उग आए उस सेमल के पेड़ को
जिसके फूलों को देखकर हम पहचानते थे वसंत को
नदी की धार में बह गई रातों-रात तरबूज की कई बीघे फ़सल
बह गया उसी के साथ वह जवान
रखा था फ़सल के लिए
जिसने रेहन पर अपना मकान
****


(सुधांशु हिंदी के युवा कवि हैं।
सबद पर उनकी कविताएं पहली  बार। )
Read On 5 comments

सबद पुस्तिका : 9

सबद पुस्तिका : 9
बाज़बहादुर की कविताएं - उदयन वाजपेयी

निरंतर...

निरंतर...
[ अपडेट्स और सूचनाओं की जगह् ]

आग़ाज़


सबद का प्रकाशन 18 मई 2008 को शुरू हुआ.

संपादन : अनुराग वत्स.

पिछला बाक़ी

साखी


कुंवर नारायण / कृष्‍ण बलदेव वैद / विष्‍णु खरे / चंद्रकांत देवताले / राजी सेठ / मंगलेश डबराल / असद ज़ैदी / कुमार अंबुज / उदयन वाजपेयी / हृषिकेश सुलभ / लाल्‍टू / संजय खाती / पंकज चतुर्वेदी / आशुतोष दुबे / यतींद्र मिश्र / पंकज मित्र / गीत चतुर्वेदी / व्‍योमेश शुक्‍ल / चन्दन पाण्डेय / कुणाल सिंह / मनोज कुमार झा / पंकज राग / नीलेश रघुवंशी / शिरीष कुमार मौर्य / संजय कुंदन / सुंदर चंद्र ठाकुर / अखिलेश / अरुण देव / समर्थ वाशिष्ट / चंद्रभूषण / प्रत्‍यक्षा / मृत्युंजय / मनीषा कुलश्रेष्ठ / तुषार धवल / वंदना राग / पीयूष दईया / संगीता गुन्देचा / गिरिराज किराडू / महेश वर्मा / मोहन राणा / प्रभात रंजन / मृत्युंजय / आशुतोष भारद्वाज / हिमांशु पंड्या / शशिभूषण /
मोनिका कुमार / अशोक पांडे /अजित वडनेरकर / शंकर शरण / नीरज पांडेय / रवींद्र व्‍यास / विजय शंकर चतुर्वेदी / विपिन कुमार शर्मा / सूरज / अम्बर रंजना पाण्डेय / सिद्धान्त मोहन तिवारी / सुशोभित सक्तावत / निशांत / अपूर्व नारायण / विनोद अनुपम

बीजक


ग़ालिब / मिर्जा़ हादी रुस्‍वा / शमशेर / निर्मल वर्मा / अज्ञेय / एम. एफ. हुसैन / इस्‍मत चुग़ताई / त्रिलोचन / नागार्जुन / रघुवीर सहाय / विजयदेव नारायण साही / मलयज / ज्ञानरंजन / सर्वेश्‍वर दयाल सक्‍सेना / मरीना त्‍स्‍वेतायेवा / यानिस रित्‍सोस / फ्रान्ज़ काफ़्का / गाब्रीयल गार्सीया मारकेस / हैराल्‍ड पिंटर / फरनांदो पेसोआ / कारेल चापेक / जॉर्ज लुई बोर्हेस / ओक्टावियो पाज़ / अर्नस्ट हेमिंग्वे / व्लादिमिर नबोकोव / हेनरी मिलर / रॉबर्टो बोलान्‍यो / सीज़र पावेसी / सुजान सौन्टैग / इतालो कल्‍वीनो / रॉबर्ट ब्रेसां / उम्बेर्तो ईको / अर्नेस्‍तो कार्देनाल / मिक्‍लोश रादनोती / निज़ार क़ब्‍बानी / एमानुएल ओर्तीज़ / ओरहन पामुक / मो यान / पॉल आस्‍टर / फि़राक़ गोरखपुरी / अहमद फ़राज़ / दिलीप चित्रे / के. सच्चिदानंदन / वागीश शुक्‍ल/ जयशंकर/ वेणु गोपाल/ सुदीप बैनर्जी /सफि़या अख़्तर/ कुमार शहानी / अनुपम मिश्र

सबद पुस्तिका : 1

सबद पुस्तिका : 1
भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार के तीन दशक : एक अंशत: विवादास्‍पद जायज़ा

सबद पुस्तिका : 2

सबद पुस्तिका : 2
कुंवर नारायण का गद्य व कविताएं

सबद पुस्तिका : 3

सबद पुस्तिका : 3
गीत चतुर्वेदी की लंबी कविता : उभयचर

सबद पुस्तिका : 4

सबद पुस्तिका : 4
चन्‍दन पाण्‍डेय की कहानी - रिवॉल्‍वर

सबद पुस्तिका : 5

सबद पुस्तिका : 5
प्रसन्न कुमार चौधरी की लंबी कविता

सबद पुस्तिका : 6

सबद पुस्तिका : 6
एडम ज़गायेवस्‍की की कविताएं व गद्य

सबद पुस्तिका : 7

सबद पुस्तिका : 7
बेई दाओ की कविताएं

सबद पुस्तिका : 8

सबद पुस्तिका : 8
ईमान मर्सल की कविताएं

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन

सबद पोएट्री फिल्‍म : 3 : शब्‍द-वन
किताबों की देहरी पर...

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में

सबद फिल्‍म : प्रेम के सुनसान में
a film on love and loneliness

सबद पोएट्री फि़ल्‍म

सबद पोएट्री फि़ल्‍म
गीत चतुर्वेदी की सात कविताओं का फिल्मांकन

गोष्ठी : १ : स्मृति

गोष्ठी : १ : स्मृति
स्मृति के बारे में चार कवि-लेखकों के विचार

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते

गोष्ठी : २ : लिखते-पढ़ते
लिखने-पढ़ने के बारे में चार कवि-लेखकों की बातचीत

सम्‍मुख - 1

सम्‍मुख - 1
गीत चतुर्वेदी का इंटरव्‍यू

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :

अपवाद : [ सबद का सहोदर ] :
मुक्तिबोध के बहाने हिंदी कविता के बारे में - गीत चतुर्वेदी